बिहार के सरकारी स्‍कूलों में मध्‍याह्न भोजन योजना पर सरकार का बड़ा फैसला, 19 लाख बच्‍चों को मिलेगा लाभ

Bihar School MDM News कोरोना महामारी के कारण बिहार के 70333 प्रारंभिक विद्यालयों में बंद मध्याह्न भोजन योजना फिर शुरू होगी। पहली से आठवीं कक्षा तक के एक करोड़ 19 लाख बच्चों को मध्याह्न भोजन परोसने की तैयारी चल रही है।

Shubh Narayan PathakWed, 17 Nov 2021 10:39 AM (IST)
बिहार के स्‍कूलों में एमडीएम योजना फिर से होगी शुरू। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Coronavirus Update News: कोरोना महामारी के कारण बिहार के 70,333 प्रारंभिक विद्यालयों में बंद मध्याह्न भोजन योजना फिर शुरू होगी। अगले माह से पहली से आठवीं कक्षा तक के एक करोड़ 19 लाख बच्चों को मध्याह्न भोजन परोसने की तैयारी चल रही है। इसके क्रियान्वयन में दो लाख 32 हजार रसोइयों को ड्यूटी पर लगाया जाएगा। इसके लिए मध्याह्न भोजन निदेशालय की ओर से एक प्रस्ताव भी आपदा प्रबंधन समूह को भेजा जाएगा।

दो हजार करोड़ रुपए खर्च करने की योजना

मिली जानकारी के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में मध्याह्न भोजन पर कुल 2262 करोड़ रुपये खर्च का प्रविधान है। इसमें केंद्रांश के तौर पर 1426 करोड़ रुपये बिहार को मिलेंगे। राज्यांश के रूप में 835 करोड़ रुपये खर्च होंगे। कोरोना काल में बच्चों को चावल और मध्याह्न भोजन मद में खर्च होने वाली राशि दी जा रही है, लेकिन अगले माह जिस दिन से बच्चों को मध्याह्न भोजन मिलेगा, उसके बाद अनाज देने और राशि के भुगतान की व्यवस्था खत्म हो जाएगी। रसोइया को हर माह 1650 रुपये का मानदेय भुगतान भी हो रहा है।

बिहार में अगले माह से 70,333 विद्यालयों में बंटेगा मध्याह्न भोजन पहली से आठवीं कक्षा तक के एक करोड़ 19 लाख बच्चे होंगे लाभान्वित

प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण योजना

यहां बता दें कि केंद्र सरकार ने मध्याह्न भोजन योजना का नाम बदल दिया है। इसे केंद्र ने प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण योजना का नाम दिया है। यह योजना वित्तीय प्रबंधन की नई व्यवस्था के तहत लागू हो रही है। नई व्यवस्था सिंगल नोडल एजेंसी (एसएनए) की है। यह पूरी व्यवस्था कैशलेस होगी।  

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.