बिहार में अगलगी से निपटने के लिए 702 दमकल तैयार, फायर ब्रिगेड ने तैयार की विशेष योजना

बिहार में फायर सर्विस को दुरुस्‍त करने पर जोर। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

अगलगी से निपटने के लिए बिहार अग्निशमन सेवा ने मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) तैयार किया है। डीजी फायर सर्विस और होमगार्ड शोभा अहोतकर के निर्देश पर कई अहम बदलाव किए गए हैं। राज्य भर में अगलगी से निबटने को एहतियातन 702 वाहनों को तैयार रखा गया है।

Shubh Narayan PathakSat, 10 Apr 2021 10:48 AM (IST)

पटना, राज्य ब्यूरो। अगलगी से निपटने के लिए बिहार अग्निशमन सेवा ने मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) तैयार किया है। डीजी फायर सर्विस और होमगार्ड शोभा अहोतकर के निर्देश पर कई अहम बदलाव किए गए हैं। राज्य भर में अगलगी से निबटने को एहतियातन 702 वाहनों को तैयार रखा गया है। सूचना मिलते ही बिना विलंब घटनास्थल की ओर रवाना हो जाएंगे। सभी वाहनों में चालको एवं रिजर्व चालकों की सुविधा दी गई है। हर जिले के दो वाहनों में फायर प्रॉक्सिमिटी सूट के साथ प्रतिनियुक्ति की गई है। सेवा को और प्रभावी बनाने के लिए अग्निशमन गाडिय़ों समेत कई नए उपकरणों की खरीद की जा रही है। जेम पोर्टल पर इसका आदेश जारी कर दिया गया है।

हर जिले में हॉट स्पॉट, बनाया गया रोड मैप

डीजी ने बताया कि सभी जिलों में अगलगी के संवेदनशील इलाकों को हॉटस्पॉट के रूप में चिन्हित किया गया है, जहां फायर टेंडर्स की प्रतिनियुक्ति की गई है। मौके पर जल्द पहुंचने के लिए रोडमैप बनाया गया है। पटना जिले में भी 18 हॉटस्पॉट की पहचान की गई है। इसमें पाटलिपुत्रा इंडस्ट्रियल एरिया, राजीव नगर, फतुहा, दीदारगंज, दिनकर गोलंबर और मीठापुर शामिल हैं। पूरे जिले में 223 कॢमयों के साथ फायर ब्रिगेड की 82 गाडिय़ों को तैयार रखा गया है। हर दिन अग्नि सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा डीजी के स्तर से की जा रही है।

241 भवनों का इस वर्ष कराया गया फायर ऑडिट 182 स्थानों पर मॉक ड्रिल और जागरुकता कार्यक्रम 08 जगहों पर विद्युत विभाग के साथ फायर ऑडिट 09 बड़े सरकारी अस्पतालों का किया गया फायर ऑडिट 223 कर्मी और 82 अग्निशमन वाहन पटना जिले के लिए

नए उपकरणों की खरीद

19 टाइप-बी अग्निशमन गाड़‍ियां 500 जोड़े फायरमैन बूट 40 फ्लोटिंग पम्प 30 स्मॉक एग्जॉस्टर 05 एयर कम्प्रेशर

डायल 101 को किया गया दुरुस्त

अगलगी की सूचना के लिए डायल 101 की सुविधा को और दुरुस्त किया गया है। कंट्रोल रूम में 10 कर्मचारियों के साथ आठ टेलीफोन लाइन और मोबाइल की सुविधा बढ़ाई गई है। आग लगने की सूचना आने पर कंट्रोल रूम से तुरंत संबंधित एसडीएम, एसडीपीओ, थानेदार और ट्रैफिक कंट्रोल रूम को जानकारी मिलेगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.