Bihar Election: रांची में लालू यादव से मिले उनके हनुमान; RJD प्रत्‍याशियों व सीटों पर लगी मुहर, घोषणा जल्‍द

आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव एवं भोला यादव, फाइल तस्‍वीर।
Publish Date:Tue, 29 Sep 2020 01:29 PM (IST) Author: Amit Alok

पटना, जेएनएन। Bihar Assembly Election 2020: राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) ने अपने स्तर से महागठबंधन (Mahagathbandhan) में सीट बंटवारे (Seat Sharing) का फॉर्मूला तय कर दिया है। इसके लिए वाम दलों (Left Parties) के साथ उसकी लगभग सहमति बन गई है। आरजेडी ने पहले फेज के मतदान के लिए अपनी सीटों व प्रत्‍याशियों की सूची (List of Seats and Candidates) भी तैयार कर ली है। यह सूची लेकर पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के हनुमान माने जाने वाले आरजेडी नेता भोला यादव (Bhola Yadav) रांची में हैं। वहां मंगलवार को उनकी लालू से मुलाकात हुई है। माना जा रहा है कि इसके बाद अब आरजेडी नेता तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) प्रत्‍याशियों की पहली सूची जल्द जारी कर सकते हैं। इसके पहले तेजस्‍वी दिल्‍ली में कांग्रेस नेता अहमद पटेल से मिलने जा रहे हैं।

जानिए, महागठबंधन में सीटों का आरजेडी फॉर्मूला

सूत्र बताते हैं कि आरजेडी ने अपनी तरफ से भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी माले (CPI ML) को 13,  भारतीय कम्‍युनिस्‍ट पार्टी (CPI) को छह और मार्क्‍सवादी कम्‍युनिस्‍ट पार्टी (CPM) को चार सीटों का ऑफर किया है। कांग्रेस (Congress) को 60 विधानसभा तथा एक लोकसभा सीट का ऑफर दिया है। हालांकि, कांग्रेस 70 विधानसभा सीटों से कम पर तैयार नही है। सीपीआइ एमएस माले भी 17 सीटों की मांग पर अड़ी है। बताया जा रहा है कि सीटों के अपने फॉर्मूले के अनुसार आरजेडी कांग्रेस सहित महागठबंधन (Grand Alliance) के अन्‍य घटक दलों से बातचीत जारी रखे हुए है।

आरजेडी के 150 सीटों पर चुनाव लड़ने की उम्‍मीद

बीच बताया जा रहा है कि आरजेडी व कांग्रेस के बीच 10 और सीटों को लेकर अभी भी पेंच फंसा हुआ है। आरजेडी 150 सीटों पर चुनाव लड़ने का मन बना रही है। उसे विकासशील इनसान पार्टी (VIP) के करीब आधा दर्जन प्रत्‍याशियों को भी अपने सिंबल पर ही चुनाव मैदान में उतारना है।

इस चुनाव में कोई रिस्‍क नहीं लेना चाहती कांग्रेस

बताया जाता है कांग्रेस बीते लोक सभा चुनाव के अपने अनुभवों के कारण कोई रिस्‍क लेने के मूड में नहीं है। उस चुनाव में कांग्रेस को 18 सीटों का वादा कर केवल नौ सीटें दी गईं थीं। कांग्रेस से आरजेडी ने राज्‍यसभा की एक सीट देने का वादा भी पूरा नहीं किया था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.