डीजीपी ने कहा कांट्रैक्‍ट किलर ने की रूपेश की हत्‍या, मुश्किल है केस पर हम ढूंढ निकालेंगे अपराधी

रूपेश हत्‍याकांड का जल्‍द उद्भेदन करने का डीजीपी ने किया दावा। जागरण

Rupesh Murder Case बिहार के डीजीपी एसके सिंघल बड़े पुलिस अफसरों के साथ पहुंचे एसएसपी कार्यालय तीन घंटे तक की बैठक इंडिगो एयरलाइंस के अधिकारी रूपेश ने कहा-केस संवेदनशील और मुश्किल थोड़े संयम की जरूरत मल्टीपल बिंदुओं पर चल रही जांच

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 06:26 PM (IST) Author: Shubh Narayan Pathak

पटना, जागरण संवाददाता। Rupesh Murder case:  पटना एयरपोर्ट पर तैनात इंडिगो एयरलाइंस के अधिकारी रूपेश सिंह की हत्या के बाद लगातार निशाने पर रहे डीजीपी एसके सिंघल शनिवार को एक्शन में दिखे। डीजीपी दोपहर बाद पुलिस मुख्यालय के एडीजी रैंक के अफसरों के साथ गांधी मैदान स्थित एसएसपी कार्यालय पहुंचे और लगभग ढाई घंटे तक रूपेश हत्याकांड व अन्य आपराधिक मामलों की समीक्षा की। डीजीपी बनने के बाद सिंघल पहली बार पटना एसएसपी के कार्यालय पहुंचे थे।

टाइमफ्रेम नहीं देंगे, पर इतना यकीन कि सुलझा लेंगे मामला

मीडिया से बातचीत करते हुए डीजीपी ने कहा कि रूपेश हत्याकांड कांट्रेक्ट किलिंग (सुपारी देकर हत्या) का विशुद्ध मामला है। पूरी उम्मीद है कि हम कम समय में इसका उद्भेदन कर देंगे। कितने दिनों में खुलासा होगा, इस बाबत पूछने पर डीजीपी ने कहा कि टाइमफ्रेम नहीं दे पाएंगे। केस संवेदनशील और मुश्किल है। मल्टीपल बिंदुओं पर जांच चल रही है। एक साथ कई टीमें काम कर रही हैं। तकनीकी जांच भी की जा रही है। जांच की बात शेयर नहीं की जाती है। जब तक हमारे हाथ में कंक्रीट चीज नहीं आएगी, तब तक जांच-जांच ही होती है।

कई केस तो सीबीआइ भी हल नहीं कर पाई

डीजीपी ने कहा कि सही डिटेक्शन के लिए थोड़े संयम और थोड़ी और मेहनत की जरूरत है। बहुत बड़ी-बड़ी एजेंसी भी बहुत बड़े-बड़े केस को सॉल्व नहीं कर पाई हैं। बिहार के अंदर कितने केस हैं, जो सीबीआइ के पास गए हैं और उनका हल नहीं निकल पाया है। हमने तो अधिकतम केस 24 से 48 घंटे में सॉल्व किया है। जो इक्का-दुक्का केस बचे हैं, उसको भी सॉल्व कर लेंगे। आप 20-25 दिनों का अखबार देखेंगे तो घटना के जिक्र के साथ ही पुलिस की कार्रवाई का जिक्र भी होगा। दरभंगा सोना लूट का ब्लाइंड केस इसका उदाहरण है।

ड‍िटेल एनालिसिस के लिए पहुंचे एसएसपी कार्यालय

डीजीपी ने कहा कि एसएसपी कार्यालय पहुंचने का मकसद डिटेल एनलिसिस करना था। आगे और क्या करना है, इन सारे बिंदुओं पर विस्तार से पुलिस अफसरों के साथ बातचीत हुई है। मेरे साथ एडीजी सीआइडी विनय कुमार, एडीजी ऑपरेशन सुशील खोपड़े, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अमित कुमार, एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा और पटना शहर के जुड़े सभी एसपी रैंक के अफसर थे।

रूपेश हत्‍याकांड की जांच के हर बिंदु पर जाना हाल

इस दौरान आइजी रेंज संजय सिंह, सिटी एसपी विनय तिवारी, डीएसपी सचिवालय, शास्त्रीनगर थानेदार सहित एसआइटी के अन्य पदाधिकारी और तकनीकी सेल के एक्सपर्ट और डायल 100 प्रभारी मौजूद रहे। वारदात के बाद एसआइटी अब तक कहां तक पहुंची? मामले में कितने लोगों से पूछताछ हुई? जांच कहां तक पहुंची? कितने लोग हिरासत में है? ऐसे कई बिन्दुओं पर जानकारी जुटाई गई।

माना काफी संवेदनशील है मामला

मीटिंग के बाद डीजीपी ने एसएसपी दफ्तर के बाहर बाहर मीडिया से मुलाकात की। उन्होंने बताया कि रूपेश हत्याकांड की जांच चल रही है। मामले में कई अहम जानकारी मिली है। एसआइटी की कई टीमें अलग अलग बिन्दुओं पर जांच कर रही है। उम्मीद है एसआइटी जल्द मामले का उद्भेदन करेगी। अपराधी सलाखों के पीछे होंगे। टीम लगातार काम कर रही है। उन्‍होंने कहा कि मामला काफी संवेदनशील है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.