Bihar: इमारत-ए-शरिया के नाजिम के खिलाफ शिकायत, महिला बोली- कमरे का दरवाजा बंद कर की जबर्दस्‍ती

बिहार झारखंड और पश्चिम बंगाल के मुसलमानों की बड़ी संस्‍था इमारत-ए-शरिया के एक मौलाना के खिलाफ छेड़खानी और जबर्दस्‍ती का मामला पटना के महिला थाने में दर्ज किया गया है। पीड़‍ित महिला की लिखित शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

Shubh Narayan PathakSat, 20 Mar 2021 11:51 AM (IST)
इमारत - ए- शरिया के नाजिम के खिलाफ दुष्‍कर्म की प्राथमिकी। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

पटना, बिहार ऑनलाइन डेस्‍क। Bihar Crime: बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के मुसलमानों की बड़ी संस्‍था इमारत-ए-शरिया के नाजिम के खिलाफ छेड़खानी और जबर्दस्‍ती का मामला पटना के महिला थाने में दर्ज किया गया है। पीड़‍ित महिला की लिखित शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। महिला ने पुलिस को बताया है कि वह काम (नौकरी) के लिए बात करने मौलाना के घर पर गई थी। इसी दौरान मौलाना ने कमरे का दरवाजा बंद कर उसके साथ गलत काम किया। महिला के लाख रोने-गिड़गिड़ाने का मौलाना पर कोई असर नहीं हुआ। इमारत-ए-शरिया का मुख्‍यालय बिहार की राजधानी पटना से सटे फुलवारीशरीफ में है। इस संस्‍था का मुसलमानों के बीच काफी प्रभाव है। यह संस्‍था मुसलमानों को मजहबी मामलों के साथ ही घरेलू मसलों में भी मार्गदर्शन करती है। संस्‍था की ओर से कई तरह के सामाजिक कार्य भी किए जाते हैं। नाजि‍म इस संस्‍था के काफी शीर्ष अधिकारी हैं।

नौकरी दिलाने के लिए मदद मांगने गई थी महिला

यह गंभीर आरोप मो शिब्‍ली कासमी पर लगा है जो इमारत-ए-शरिया के नाजिम हैं। उनके खिलाफ आइपीसी की धारा 354 (बी) के तहत प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। पीड़ि‍त महिला के मुताबिक यह मामला करीब 11 महीने पुराना है। लॉकडाउन के दौरान आर्थिक परेशानी झेल रही महिला को काम की तलाश थी। इसी सिलसिले में महिला ने नाजिम से संपर्क किया था। नाजिम ने महिला को मदद का भरोसा दिलाते हुए अपने घर पर बुलाया था।

बच्‍चों को दरवाजे के बाहर कर किया गंदा काम

महिला के मुताबिक पिछले साल 22 अप्रैल को वह मौलाना के घर गई थी। महिला के साथ उसके बच्‍चे भी थे। सुबह के करीब छह बजे जब महिला मौलाना के घर पहुंची तो वहां दूसरा कोई नहीं था। महिला जब उनके घर पहुंची तो मौलाना ने उसे घर के अंदर बुला लिया, लेकिन बच्‍चों को बाहर ही छोड़कर दरवाजा बंद कर दिया। इसके बाद मौलाना ने गलत हरकत को अंजाम दिया।

11 महीने देरी से प्राथमिकी दर्ज कराने पर उठ रहे सवाल

इस मामले में करीब 11 महीने की देरी से पुलिस के पास पहुंचने पर सवाल उठ रहे हैं। जिसका जवाब महिला ने अपनी शिकायत में ही दिया है। महिला के मुताबिक मौलाना और उनके कुछ करीबी उसे लगातार धमका रहे थे। ये लोग उसके घर तक जा रहे थे। इनके डर से ही प्राथमिकी दर्ज कराने में देरी हुई। सूत्रों से मिली जानकारी पर  यकीन करें तो पुलिस को इस मामले में आवेदन करीब एक पखवारा पहले ही मिल गया था, लेकिन काफी काफी हाई प्रोफाइल केस होने के कारण पुलिस ने हर तरह से जांच के बाद ही प्राथमिकी दर्ज की है।

महिला ने खुद के पास कुछ वीडियो होने का किया दावा

महिला ने अपने आवेदन में दावा किया है कि उसके पास मौलाना के कुछ वीडियो हैं। उसका यह भी दावा है कि वह इन वीडियो को वायरल करने की कोशिश कर रही थी। महिला थाना की प्रभारी थानाध्‍यक्ष कुमारी अंचला ने इस हाई प्रोफाइल मामले की जांच खुद ही करने का दावा किया है। उन्‍होंने कहा कि जांच पूरी होने पर ही इस बारे में ही कुछ कहा जा सकेगा। हमने इस बाबत आरोपित मौलाना का पक्ष जानने का प्रयास किया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।

यह भी पढ़ें- गया की महिला को प्‍यार करने का ऐसा मिला अंजाम, पहले हुआ यह गंदा काम, अब बर्बाद करने की धमकी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.