Bihar CoronaVirus ALERT: बिहार में रोज रिकार्ड तोड़ रहा कोरोना, आंकड़े देने में विलंब पर नपेंगे अफसर

कोरोनावायरस संक्रमण की जांच के लिए सैंपल कलेक्‍शन। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।

Bihar CoronaVirus ALERT बिहार में कोरोनावायरस संक्रमण की रफ्तार तेज होती जा रही है। हर दिन पिछला रिकार्ड टूट रहा है। इस बीच सरकार ने संक्रमण व इलाज के आंकड़े देने में विलंब करने पर संबंधित अधिकारियों व कर्मचारियों पर कार्रवाई करने का फैसला किया है।

Amit AlokMon, 12 Apr 2021 12:50 PM (IST)

पटना, स्‍टेट ब्‍यूराे। Bihar CoronaVirus ALERT बिहार में कोरोनावायरस संक्रमण (CoronaVirus Infection)  के आंकड़े रोज नए रिकार्ड बना रहे हैं। बीते 24 घंटे के दौरान कुल 3756 रिपोर्ट पॉजिटिव आई, जिनमें सर्वाधिक 1382 पटना से हैं। इसके साथ सक्रिय मरीजों (Active Cases) की संख्‍या करीब 15 हजार हो चुकी है। इस बीच राज्‍य सरकार ने स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के 'कोविन' वेब पोर्टल में कोरोनावायरस संक्रमण, बचाव व इलाज से संबंधित आंकड़े व जानकारियां अपलोड करने की व्‍यवस्‍था चुस्‍त करने की कवायद शुरू कर दी है। इसमें लापरवाही की स्थिति में संबंधित अधिकारी व कर्मचारी नपेंगे।

लापरवाह अफसरों-कर्मियों से सख्ती से निपटेगी सरकार

राज्य में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बाद से सरकार हरकत में है। जिलावार कोरोना टेस्ट बढ़ाने से लेकर आइसोलेशन सेंटर और अस्पतालों में बेड तक की उपलब्धता की जानकारी लेने की कोशिश की जा रही है। लेकिन सूचनाएं प्राप्त करने में स्वास्थ्य विभाग को काफी कठिनाई हो रही है। जिले निर्देश के बाद भी सूचनाओं को लेकर लापरवाह हैं। इसके बाद सरकार ने ऐसे अफसरों-कर्मियों से सख्ती से निपटने का फैसला किया है।

सिविल सर्जनों को समय पर डाटा अपलोड की हिदायत

स्वास्थ्य विभाग की ओर से सभी जिलों के सिविल सर्जन और स्वास्थ्य मैनेजर को एक पत्र जारी किया गया है, जिसमें ताकीद की गई है कि जिलों में हो रहे टेस्ट से लेकर टीकाकरण तक की अद्यतन स्थिति कोविन पोर्टल पर सही समय पर अपलोड की जाए। पत्र में बताया गया है कि ऐसी ही लापरवाही के ताजा मामले में पटना में एक पदाधिकारी को कार्य मुक्त भी किया गया है।

बेड, ऑक्सिजन, डॉक्टर व नर्स तक का ब्योरा तलब

अस्पतालों में संक्रमितों के लिए बेड की क्षमता, ऑक्सीजन सिलेंडर आपूर्ति की स्थिति से लेकर डॉक्टर और नर्सों की उपलब्धता तक की जानकारी विभाग ने तत्काल मांगी है। साथ ही कहा गया है कि है कि प्रत्येक जिले अस्पतालों में बेड की क्षमता बढ़ाएं। अस्पताल में डॉक्टर, नर्स, ऑक्सीमीटर, थर्मल स्कैनर पर्याप्त संख्या में रखें।

फोन नहीं उठाने वाले अफसरों पर गाज गिरनी तय

स्वास्थ्य विभाग ने सिविल सर्जन, स्वास्थ्य मैनेजरों से कहा है कि हर सेंटर के प्रभारी के नाम, उनके फोन व मोबाइल नंबर तत्काल विभाग को मुहैया करा दें। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि फोन अथवा मोबाइल रिंग बजने के साथ उठाए जाएं और सही जानकारी दी जाए। यदि ऐसा नहीं होता है या फिर फोन, मोबाइल ऑफ पाया जाता है तो ऐसे अफसरों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.