भाजपा, जदयू, राजद और कांग्रेस के कार्यालयों में बदली व्‍यवस्‍था, आम लोगों और कार्यकर्ताओं के लिए नियम तय

बिहार के राजनीतिक दलों के कार्यालयों में कोरोना से बचाव के लिए बदले नियम। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए राजनीतिक दलों की गतिविधियां सीमित हो गई हैं। पार्टियों के प्रदेश मुख्यालयों में आम कार्यकर्ताओं की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। जरूरी बैठकें वर्चुअल मोड में आ गई हैं। रोज आने वाले पदाधिकारियों को भी कहा गया है कि एहतियात बरतें।

Shubh Narayan PathakSun, 11 Apr 2021 06:49 AM (IST)

पटना, राज्य ब्यूरो। कोरोना के बढ़ते कहर को देखते हुए राजनीतिक दलों की गतिविधियां सीमित हो गई हैं। पार्टियों के प्रदेश मुख्यालयों में आम कार्यकर्ताओं की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है। जरूरी बैठकें वर्चुअल मोड में आ गई हैं। रोज आने वाले पदाधिकारियों को भी कहा गया है कि जरूरी एहतियात बरतें। हमेशा मास्क लगाकर रहें। साथ में सैनिटाइजर भी रखें। भाजपा के प्रदेश कार्यालय में शनिवार को आम कार्यकर्ताओं की आवाजाही बेहद कम रही। प्रवक्ता अरविंद कुमार सिंह के मुताबिक पहले से निर्धारित तमाम बैठकें वर्चुअल मोड में होंगी। प्रदेश कार्यालय में कुछ नेताओं का आवास भी है। इन नेताओं के अलावा कुछ पदाधिकारियों को ही नियमित तौर पर कार्यालय आने की इजाजत मिली है। पदाधिकारियों को कहा गया है कि दफ्तर आने के बदले फोन पर ही जरूरी विमर्श कर लें। कार्यकर्ताओं को भी घर रहने को कहा गया है।

राजद के कार्यालय में आम लोगों के आने पर पाबंदी

राजद के प्रदेश कार्यालय में आम लोगों के आने जाने पर पाबंदी लगा दी गई है। प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद शनिवार को कार्यालय नहीं आए। हालांकि सोमवार से वे नियमित रूप से कार्यालय में बैठेंगे। उनके अलावा पार्टी के कुछ उपाध्यक्ष और महासचिव कोरोना के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कार्यालय में बैठेंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के जारी रहने तक नेताओं की जयंती-पुण्यतिथि पर समारोह आयोजित नहीं किए जाएंगे। तस्वीर पर माल्यार्पण कर औपचारिकता निभाई जाएगी। उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर पहले की तुलना में खतरनाक रूख अख्तियार कर रही है। एहतियात बेहद जरूरी है।

जदयू की बैठकें अब वर्चुअल मोड में

जदयू के प्रदेश कार्यालय में बमुश्किल दर्जन भर पदाधिकारी पर्याप्त दूरी बनाकर दिन में बैठ रहे हैं। अधिक लोगों की जुटान वाली बैठकें नहीं हो रही है। पहले से निर्धारित बैठकें अब वर्चुअल मोड में होंगी। प्रदेश महासचिव डा. नवीन आर्या ने बताया कि कार्यकर्ताओं को कहा गया कि वे बेवजह कार्यालय न आएं। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें। दूसरों को भी महामारी से बचाव के बारे में जागरूक करें। उन्होंने बताया कि शाम सात बजे कार्यालय बंद कर दिया जा रहा है। उसके बाद सिर्फ वही लोग कार्यालय में रहते हैं, जिनके रात्रि विश्राम की व्यवस्था है।

पार्टी कार्यालयों में आम कार्यकर्ताओं की आवाजाही पर रोक भाजपा की सभी जरूरी बैठकें अब वर्चुअल मोड में सात बजे बंद हो जा रहा जदयू कार्यालय राजद कार्यालय में सिर्फ पदाधिकारियों को बैठने की इजाजत बंद है प्रदेश अध्यक्ष और प्रभारी का कमरा

सैनिटाइज होगा सदाकत आश्रम स्थि‍त कांग्रेस मुख्‍यालय

प्रदेश अध्यक्ष डा. मदन मोहन झा और प्रभारी भक्त चरण दास के संक्रमित होने के बाद कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम को सैनिटाइज किया जा रहा है। अध्यक्ष के चैम्बर और भक्त चरण दास के आवासीय कक्ष को फिलहाल बंद रखा गया है। इस समय पांच-सात पदाधिकारी आश्रम में आते हैं। वे एक-दूसरे से दूरी बनाकर बैठते हैं। आम कार्यकर्ताओं के आने जाने पर रोक है। आश्रम में कर्मचारियों का आवास भी है। कर्मचारियों और उनके स्वजनों को बाहरी लोगों के संपर्क में आने से बचने की हिदायत दी गई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.