top menutop menutop menu

Bihar Assembly Election: रामविलास का बड़ा बयान: चिराग में CM बनने की क्षमता, मेरे साथ-साथ नीतीश भी हो रहे पास्‍ट

Bihar Assembly Election: रामविलास का बड़ा बयान: चिराग में CM बनने की क्षमता, मेरे साथ-साथ नीतीश भी हो रहे पास्‍ट
Publish Date:Wed, 12 Aug 2020 11:08 AM (IST) Author: Amit Alok

पटना, स्‍टेट ब्‍यूरो। Bihar Assembly Election: लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के नेता व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) ने कहा है कि उनकी पार्टी कोरोना संक्रमण (CoronaVirus Infection) और बाढ़ (Bihar Flood) की वजह से फिलहाल बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) के पक्ष में नहीं है। पार्टी चुनाव आयोग (Election Commission) से अपनी बात कह चुकी है। भावी मुख्यमंत्री (CM) को लेकर एक सवाल के जवाब में उन्‍होंने कहा कि चिराग पासवान (Chirag Paswan) में मुख्‍यमंत्री बनने की क्षमता है, लालू (Lalu Prasad Yadav) और नीतीश (Nitish Kumar) के साथ खुद मैं भी पास्ट हो रहा हूं। भविष्य युवा पीढ़ी का ही है।

चिराग में मुख्‍यमंत्री बनने की क्षमता, पर अभी जल्‍दी नहीं

भावी मुख्यमंत्री पद के लिए अक्सर चिराग के नाम की चर्चा को लेकर एक समाचार चैनल के साथ बातचीत के क्रम में रामविलास पासवान ने कहा कि चिराग में मुख्‍यमंत्री बनने की क्षमता है। वैसे यह भी सही है कि मैं खुद, लालू प्रसाद और नीतीश कुमार अब पास्ट हो रहे हैं। भविष्य युवा पीढ़ी का ही है। हालांकि, उनकी पार्टी को अभी जल्दबाजी नहीं है।

अगले विधानसभा चुनाव में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के घटक दल की हैसियत से एलजेपी मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को चेहरा मान रही है। रामविलास पासवान ने आगामी विधानसभा चुनाव से जोड़कर उक्‍त बयान नहीं दिया है।

कोरोना व बाढ़ के काल में एलजेपी नहीं चाहती चुनाव

रामविलास पासवान ने कहा कि बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है। बाढ़ में लोग जान बचाने के लिए ऊंची जगहों पर पलायन कर रहे हैं। जीवन का खतरा सबसे बड़ा मामला है। ऐसे मे थोड़े दिनों के लिए चुनाव को टाल दिया जाना चाहिए। उनकी पार्टी का मानना है कि चुनाव निष्पक्ष होना चाहिए। हर व्यक्ति को वोट देने का मौलिक अधिकार है। इसके लिए चुनाव को टालना जरूरी है।

बिहार में कोरोना की जांच और इलाज की व्यवस्था के संबंध में उन्होंने कहा कि जो व्‍यवस्‍था होनी चाहिए, वह नहीं है। जिस तरह से दिल्ली में ध्यान दिया गया, उसी तरह से बिहार में भी ध्यान देने की जरूरत है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.