top menutop menutop menu

गरीब भाई के लिए मुश्किल हुई दो बहनों की शादी, फेसबुक पर बढ़े मदद के हाथ तो कुछ ऐसे बनी बात

जेएनएन, पटना। सोशल साइट्स लोगों को वर्चुअल जोड़ते हैं, लेकिन इसके माधयम से रियल मदद भी मिलती रही है। ताजा मामला बिहार के बेगूसराय जिले का है, जहां फेसबुक की मदद से एक व्‍यक्ति ने एक जरूरतमंद लड़की की शादी के लिए मदद की गुहार लगाई। पोस्ट देखने के बाद लोगों से जो भी बन पड़ा, किया। इस तरह जनसहयोग से एक लड़की की शादी की तैयारी हो गई। 

गरीब भाई के लिए मुश्किल हो गई दो बहनों की शादी

मामला जयमंगलागढ़ सिद्ध पीठ देवी मां के मंदिर व प्रसिद्ध कांवर झील के पास का है। मंदिर के निकट स्थित महादलित टोले में कई परिवार बदहाली का जीवन व्यतीत कर रहे हैं। जयमंगलागढ़ में ही माता के मंदिर के बाहर फूल बेचकर अपना व परिवार का गुजारा कने वाले मिथुन की छह बहनें हैं। उनमें दो की शादी एक ही दिन दो जुलाई को तय हुई। एक बहन की शादी की बात चल रही थी और थोड़ा-थोड़ा करके शादी के खर्चे के लिए रूपये व सामान भी जमा किए थे, मगर जब एक साथ दो बहनों के लिए माकूल रिश्ता मिल गया तो एक ही दिन दोनों की शादी की ठान ली। पर कोरोना महामारी के दौरान दो शादियों का सामान जुटाना काफी मुश्किल था।

युवाओं की पहल पर मदद के लिए बढ़े लोगों के हाथ

मिथुन को जिले के ही कुछ सामाजिक युवाओं के बारे में जानकारी मिली, जिनसे मदद मिल सकती थी। वे उनके पास पहुंच गए। युवाओं ने उन्‍हें मदद देने का वादा किया। इसके बाद युवाओं की टीम में शामिल अमित जायसवाल ने फेसबुक पर एक पोस्ट के माध्यम से जरूरतमंद लड़की की शादी के लिए मदद की गुहार लगाई। पोस्ट देखने के बाद बेगूसराय जिले के सामाजिक लोगों ने अपने अपने स्तर से जो भी बन पड़ा उस लड़की के लिए मदद का हाथ बढ़ा दिया।

तैयारियां देखकर हर कोई दंग रह गया दंग

साड़ी व्यवसायी निखिल ने दुल्हन के लिए शादी की 11 साडि़यां, दूल्हे के लिए कपड़े और बैग दिए। वहीं, किशन गुप्ता ने आयरन, पंखा और कूकर तो कुंदन गुप्ता ने दो साडि़यां दीं। अन्नू कुमारी ने मिक्सी, संदीप कुमार ने स्टील के बर्तन, साड़ी, श्रृंगार का समान, पायल व बिछिया तो सुशील कुमार ने साड़ी दी। कई अन्य लोगों ने भी आर्थिक रूप से शादी में योगदान दिया। इस तरह से शादी की पूरी तैयारियों पूरी हो गईं। गरीब भाई के लिए मददगार बने युवाओं ने  बहनों की शादी के लिए डोली सजवा दी, जिसे देखकर हर कोई दंग रह गया।

भावुक भाई बोला: आज भी अच्‍छे लोगों की कमी नहीं

युवाओं की पहल पर जब मदद मिलनी शुरू हुई तो भाई की आंखाें से खुशी के आंसू छलक पड़े। उसने भावुक होते हुए कहा कि कतई उम्‍मीद नहीं थी कि एक साथ दो बहनों की शादी के लिए इतने सामान एक साथ मिल जाएंगे। कहा दुनिया में आज भी अच्‍छे लोगों की कमी नहीं है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.