बिहार के 94 लाख ने नहीं ली कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज, देश में राज्य का चौथा स्थान

राज्य में अब भी करीब छह करोड़ लोगों की वैक्सीन की दूसरी डोज बकाया है। इनमें करीब 94 लाख लोग ऐसे भी हैं जो मियाद बीतने के बाद भी वैक्सीन की दूसरी डोज लेने सेंटर तक नहीं पहुंचे हैं।

Akshay PandeyPublish:Fri, 03 Dec 2021 10:47 PM (IST) Updated:Fri, 03 Dec 2021 10:47 PM (IST)
बिहार के 94 लाख ने नहीं ली कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज, देश में राज्य का चौथा स्थान
बिहार के 94 लाख ने नहीं ली कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज, देश में राज्य का चौथा स्थान

राज्य ब्यूरो, पटना : कोरोना वायरस के नए संक्रमण ओमिक्रोन के खतरों के बीच सरकार का सर्वाधिक ध्यान लोगों के टीकाकरण पर है। राज्य में अब भी करीब छह करोड़ लोगों की वैक्सीन की दूसरी डोज बकाया है। इनमें करीब 94 लाख लोग ऐसे भी हैं, जो मियाद बीतने के बाद भी वैक्सीन की दूसरी डोज लेने सेंटर तक नहीं पहुंचे हैं। समय बीतने के बाद भी वैक्सीन की दूसरी डोज को ले बेरुखी दिखाने के मामले में बिहार का देश भर में चौथा स्थान है। इस श्रेणी में उत्तर प्रदेश का स्थान पहला है। 

पहले पायदान पर उत्तर प्रदेश, दूसरे पर राजस्थान, तीसरे में है महाराष्ट्र


केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने मियाद बीतने के बाद भी वैक्सीन की दूसरी डोज में दिलचस्पी न दिखाने वाले राज्यों के आंकड़े सार्वजनिक किए हैं। मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार बिहार में अब तक 93.60 लाख लोग हैं जो समय बीतने के बाद भी दूसरी डोज के लिए सेंटर नहीं आए। उत्तर प्रदेश में ऐसे लोगों की संख्या 2.11 करोड़ है, जो देश में सर्वाधिक बड़ी संख्या है। इसके बाद राजस्थान का नंबर आता है। यहां 1.23 लाख लोगों ने समय बीतने के बाद भी वैक्सीन की दूसरी डोज नहीं ली है। वहीं महाराष्ट्र में ऐसे लोगों की संख्या एक करोड़ से ज्यादा है। मंत्रालय ने लोगों की इस लापरवाही पर चिंता जताई है। 

देश के 29 जिले में 50 फीसद से कम को पहली डोज, इसमें बिहार नहीं


स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार देश के 29 जिले ऐसे भी पाए गए हैं, जहां 50 फीसद से कम लोगों को टीके की पहली डोज ही दी जा सकी है। हालांकि इस जिलों ही इस सूची में बिहार का स्थान नहीं है। प्रदेश के सभी जिलों में रहने वाले 50 फीसद से अधिक लोगों को अब तक वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है।