नकली उर्वरक बनाने का हुआ राजफाश

नवादा जिला कृषि पदाधिकारी नवादा ने वारिसलीगंज पुलिस के सहयोग से वारिसलीगंज मेन रोड पावर सब स्टेशन के पास हीरो शो रूम के सामने भोला प्रसाद साव पिता शिवनंदन साव के घर स्थित तहखाना में शुक्रवार की दोपहर बाद छापेमारी किया।

JagranFri, 30 Jul 2021 11:47 PM (IST)
नकली उर्वरक बनाने का हुआ राजफाश

नवादा : जिला कृषि पदाधिकारी नवादा ने वारिसलीगंज पुलिस के सहयोग से वारिसलीगंज मेन रोड, पावर सब स्टेशन के पास, हीरो शो रूम के सामने भोला प्रसाद साव पिता शिवनंदन साव के घर स्थित तहखाना में शुक्रवार की दोपहर बाद छापेमारी किया। मौके पर इफको कंपनी का सैकड़ों बोरा डुप्लीकेट डीएपी, इफको यूरिया, हरा बहार रासायनिक खाद समेत अन्य कंपनियों के उर्बरक का खाली बोरा, उर्बरक एवं शराब की कुछ खाली बोतलें गृहस्वामी के तहखाना से बरामद किया गया। इस संबंध में प्रखंड कृषि पदाधिकारी के आवेदन पर नकली उर्वरक बनाने के आरोपित भोला प्रसाद के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करने की प्रक्रिया की जा रही है। छापेमारी के दौरान जिला कृषि पदाधिकारी लक्ष्मण प्रसाद तथा अनुमंडल कृषि पदाधिकारी संतोष कुमार ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार पर भोला प्रसाद के वार्ड सांख्य 05 मुड़लाचक मुहल्ला स्थित घर के तहखाना में स्थानीय पुलिस की सहायता से छापेमारी किया गया। जहां तहखाने में सस्ते मूल्य के उर्वरक में कुछ केमिकल मिलावट कर नकली डीएपी पारस उर्वरक बनाने का कार्य होता पाया गया। गोदाम में सैकड़ों बोरा डुप्लीकेट डीएपी खाद पाया गया। जिसका नमूना प्रखंड कृषि पदाधिकारी पवन कुमार के द्वारा लिया गया। मौके पर इफको डीएपी के सैकड़ों नया प्रिट का खाली बोरा पाया गया। जिसका भी नमूना लिया गया। जबकि कंपनी की तरह बोरा सिलने की दो मशीनों के अलावे लाल एवं हरे रंग का प्लास्टिक धागा, वेट मशीन तथा आधा दर्जन खाली शराब की बोतल पुलिस द्वारा जप्त कर थाना लाया गया। आवास परिसर में जाली डीएपी लोड एक पिकअप वाहन को भी जप्त कर थाना लाया गया है। जिला कृषि पदाधिकारी ने पत्रकारों को बताया कि आरोपित सस्ते मूल्य का उर्वरक लाकर उसमें कुछ केमिकल मिलाकर पारस डीएपी के बोरी में रिबैग कर बाजार में मिलने वाले डीएपी के बराबर कीमत पर बिक्री करने का कार्य करता है। अधिकारियों के समक्ष ही उक्त मकान स्थित तहखाने के दरबाजे को सील कर दिया गया है। जबकि भोला प्रसाद का गोपालपुर गांव के समीप स्थित प्रतिष्ठान में भी छापेमारी को टीम गई, लेकिन वहां ताला बंद मिला। मामले में कारोबारी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। संवाद प्रेषण तक प्राथमिकी की प्रक्रिया की जा रही थी। कृषि अधिकारी ने कहा कि इस प्रकार का जाली उर्वरक किसान अनभिज्ञता में खरीद लेते हैं। जिसका फसलों पर लाभ की जगह प्रतिकूल असर होता है। जबकि इफको उर्वरक की बिक्री आम दुकानों में प्रतिबंधित है। उक्त डुप्लीकेट उर्वरक कारोबारी के घर सैकड़ो बोरा इफको पाया गया है। जो अबैध भंडारण का भी मामला बनता है। -------------- पूर्व में भी हो चुकी है छापेमारी - डुप्लीकेट उर्वरक एवं सीमेंट बनाने वाले सहोदर भाई भोला प्रसाद एवं शंकर प्रसाद के विरुद्ध पूर्व में भी कई छापेमारी हो चुकी है। इस बाबत वारिसलीगंज थाना कांड संख्या 164/15 में डुप्लीकेट सीमेंट बनाने के तहत उक्त कारोबारी के घर डीआइयू टीम के द्वारा छापेमारी की गई थी। तब बड़ी संख्या में बड़े बड़े ब्रांड का सीमेंट का खाली बोरा बरामद किया गया था। उक्त मामले में दोनों कारोबारी भाई जेल यात्रा भी कर चुका है। जबकि उक्त मामले से पहले भी कारोबारी के घर छापेमारी एवं मुकदमा दर्ज है। ----------------- आय से अधिक मामले की भी दर्ज है प्राथमिकी - सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार उक्त कारोबारी एसीसी सीमेंट एवं लाल स्टील का अधिकृत विक्रेता है। जिसके आड़ में डुप्लीकेट सीमेंट एवं उर्वरक बनाने का कार्य अपने घर के तहखाने में वर्षों से किया करता है। इसी प्रकार के मामले में कारोबारी शंकर प्रसाद साव जेल में बंद था। जेल से जल्दी निकलने के बाद पुन: किसी मामले में जेल जाने की नौबत आने पर अपने अधिवक्ता की मदद से अपने स्थान पर किसी अन्य व्यक्ति को कोर्ट में हाजिर कर जेल भेजवा दिया था। जब मामले का भंडाफोड़ हुआ तब फिर खुद कारोबारी को पुलिस ने पकड़ कर जेल भेजा है। जो फिलहाल जेल में है। बाबजूद अपना डुप्लीकेसी का कारोबार चालू रखा था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.