धान अधिप्राप्ति को ले अधिक से अधिक किसानों का कराएं निबंधन

धान अधिप्राप्ति को ले अधिक से अधिक किसानों का कराएं निबंधन

- धान अधिप्राप्ति टास्क फोर्स की बैठक में दिए गए कई निर्देश - अपने-अपने क्षेत्र में पैक्सों के सा

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 06:36 PM (IST) Author: Jagran

गया। मंगलवार को नवादा जिला पदाधिकारी यश पाल मीणा की अध्यक्षता में धान अधिप्राप्ति टास्क फोर्स की बैठक आयोजित की गई। जिसमें धान क्रय शुरू करने, किसानों के निबंधन आदि को लेकर दिशा-निर्देश दिए गए। डीएम ने सभी बीसीओ को निर्देश दिया कि अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर पैक्सों के साथ बैठक करें। पिछले वर्ष के अपेक्षा इस वर्ष ज्यादा किसानों का निबंधन कर उन्हें ज्यादा से ज्यादा लाभ दिलाएं। 23 नवंबर से 31 मार्च तक धान खरीदारी का समय निर्धारित है। सीएमआर जमा करने की तिथि अगले साल 30 जून तक है। सामान्य धान का मूल्य 1868 रूपये प्रति क्विटल तथा ग्रेड ए धान का मूल्य 1888 रुपये प्रति क्विटल निर्धारित है। धान अधिप्राप्ति के लिए जिला का लक्ष्य 1.30 लाख एमटी है। डीएम ने कहा कि धान क्रय में कोविड-19 के गाइडलाइन का पालन किया जाना चाहिए। पैक्सों में सैनिटाइजर, साबुन की व्यवस्था किया जाना चाहिए। शारीरिक दूरी का पालन करना अनिवार्य है। समितियों में दीवार लेखन के माध्यम से मूल्य एवं अधिप्राप्ति समय सीमा का निर्धारण करें। उन्होंने बताया कि अभी तक 1837 किसानों का निबंधन तथा 365 किसानों का सत्यापन किया गया है। सभी बीसीओ को निर्देश दिया गया कि इस वर्ष ज्यादा से ज्यादा किसानों का निबंधन कराएं। अधिप्राप्ति के लिए कई कागजातों का होना जरुरी है। रैयत के लिए फोटो युक्त पहचान पत्र (आधार कार्ड, मतदाता सूची एवं ड्राइविग लाइसेंस आदि), एलपीसी या मालगुजारी रसीद एवं बैंक पासबुक का फोटो कॉपी होना अनिवार्य है। गैर रैयत के लिए फोटोयुक्त पहचान पत्र (आधार कार्ड, मतदाता सूची एवं ड्राइविग लाइसेंस आदि, बैंक पासबुक की फोटो कॉपी, धान उत्पादन का रकवा संबंधित स्वयं घोषणा पत्र जिस पर वार्ड पार्षद या किसान सलाहकार की अनुशंसा अनिवार्य है। डीएम एसएफसी को निर्देश दिया गया कि सभी गोदामों का भौतिक सत्यापन करें तथा वाहनों में जीपीएस टैगिग करना सुनिश्चित करें। मीलों का निबंधन एवं भौतिक सत्यापन भी करना सुनिश्चित करेंगे। इस अवसर पर अपर समाहर्ता उज्जवल कुमार सिंह, जिला आपूर्ति पदाधिकारी अर्चना कुमारी, डीसीओ शहनबाज आलम, एसएफसी के जिला प्रबंधक इन्द्रजीत सिंह, डीपीआरओ गुप्तेश्वर कुमार समेत सभी डीसीओ उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.