मानववाद के मार्गदर्शक थे रामस्वरूप वर्मा : पथिक

नवादा उत्तर प्रदेश के पूर्व वित्तमंत्री और डॉ लोहिया के निकटतम सहयोगी रहे महामना रामस्वरूप वर्मा मानववाद और समाजवाद के मार्गदर्शक थे।

JagranSun, 22 Aug 2021 10:59 PM (IST)
मानववाद के मार्गदर्शक थे रामस्वरूप वर्मा : पथिक

नवादा : उत्तर प्रदेश के पूर्व वित्तमंत्री और डॉ लोहिया के निकटतम सहयोगी रहे महामना रामस्वरूप वर्मा मानववाद और समाजवाद के मार्गदर्शक थे। उनके जीवन से आज के समाजसेवियों और राजनितिज्ञों को सीख लेने की जरूरत है। उक्त विचार रविवार को हिसुआ प्रखंड के कहरिया गांव में शांति उन्नति समिति कहरिया द्वारा आयोजित क्रांति दिवस को संबोधित करते हुए अर्जक संघ सांस्कृतिक समिति के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेन्द्र पथिक ने व्यक्त किया।

उन्होंने कहा कि रामस्वरूप वर्मा जी के अनुसार जीवन के चार मु़ख्य क्षेत्र होते हैं-सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक। इन चारों क्षेत्रों में जीवन के पूर्व निर्धारित मूल्यों में सकारात्मक बदलाव को ही क्रांति कहते हैं। इसके लिए वर्मा जी ने सामाजिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में मानववाद स्थापित करने हेतु 1 जून 1968 को अर्जक संघ तथा आर्थिक और राजनीतिक क्षेत्र में समाजवाद स्थापित करने हेतु 7 अगस्त 1972 को बिहार के पूर्व बिजली और सिचाई मंत्री जगदेव प्रसाद के साथ मिलकर शोषित समाज दल की स्थापना की थी।

वर्मा जी का जन्म कानपुर देहात जिला के गौरिकरण गांव में 22 अगस्त 1922 को एक साधारण किसान के घर हुआ था। वे मानववाद और समाजवाद के लिए आजीवन प्रयासरत रहे इस कारण उनके जन्मदिन को क्रांति दिवस के रूप में मनाया जाता है।

अर्जक संघ के प्रखंड अध्यक्ष अश्विनी वर्मा ने संबोधित करते हुए कहा कि समाज में व्याप्त अन्धविश्वास और सामाजिक सांस्कृतिक कुरीतियों को मिटाने और समाज में बराबरी लाने के लिए संघठन संकल्पित है।

समारोह की अध्यक्षता रामफल आ•ाद ने की जबकि संचालन अर्जक नेता सकलदेव मांझी (शिक्षा सेवक ) ने की।

समारोह में निबंध प्रतियोगिता का आयोजन हुआ जिसमें सभी प्रतिभागी बच्चों के बीच पुरस्कार वितरण किया गया।

सकलदेव मांझी ने कहा कि शिक्षा के बिना उन्नति सम्भव नहीं है। इसलिए इस गांव के लोग अब शिक्षा के प्रति ज्यादा उत्साहित हैं।

कार्यक्रम में मुकेश मांझी, व‌र्ल्ड विजन के जाफेट नायक, गोरेलाल मांझी, कर्ण वर्मा, नरेश साव, जितेंद्र वर्मा, कृष्ण सिंह, देवनाथ कुमार, श्रवण पंडित,संजय चौधरी भोला वर्मा , प्यारेलाल मांझी आदि की भूमिका अहम रही।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.