अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को आज पहला अ‌र्ध्य देंगे व्रती

नवादा। जिलेभर में लोक आस्था का महापर्व छठ को लेकर चारों ओर भक्तिमय माहौल बना हुआ है। श्

JagranPublish:Sat, 17 Apr 2021 09:32 PM (IST) Updated:Sat, 17 Apr 2021 09:32 PM (IST)
अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को आज पहला अ‌र्ध्य देंगे व्रती
अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को आज पहला अ‌र्ध्य देंगे व्रती

नवादा। जिलेभर में लोक आस्था का महापर्व छठ को लेकर चारों ओर भक्तिमय माहौल बना हुआ है। शनिवार को छठ व्रत के दूसरे दिन सभी व्रतियों ने ºना व्रत किया। खरना पूजन को लेकर सुबह से शाम तक व्रतियों ने निर्जला उपवास रखा। संध्या में पवित्र स्नान करने के बाद व्रतियों ने विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना किया। पूजन समाप्त होने के बाद व्रतियों ने खरना का प्रसाद ग्रहण किया। इस दौरान व्रतियों के घर में रही महिलाओं ने छठी मईया के पारंपरिक गीत गाए। साथ ही गली-मोहल्लों में भी व्रतियों के घर पर ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से छठी मईया के गीत बजते रहे। इससे पूरा माहौल भक्तिमय हो गया। पूजन के बाद व्रतियों ने घर-परिवार लोग खरना का प्रसाद ग्रहण किया। साथ ही पास-पड़ोस के लोगों को भी बुलाकर प्रसाद खिलाया। व्रतियों के घर में देर रात तक लोगों का आना-जाना लगा रहा। जहां सभी लोगों ने व्रतियों का पैर छूकर आशीर्वाद लेने के बाद खरना का प्रसाद ग्रहण किया। इस दौरान चारों तरफ भक्ति और आस्था का माहौल देखने का मिल रहा है। रविवार को अस्ताचलगामी भगवान भास्कर को व्रती पहला अ‌र्घ्य देंगे। सोमवार को उदीयमान भगवान भास्कर को अ‌र्ध्य दिया जाएगा। इसके साथ ही व्रत का पारण होगा। कोरोना संक्रमण का खतरा का देखते हुए व्रतियों को नदी, तालाब, पोखर आदि में अ‌र्ध्यदान पर रोक लगा दिया गया है। ताकि छठ घाटों पर भीड़-भाड़ नहीं लगे। सरकार की ओर से व्रतियों को अपने घरों पर अ‌र्ध्यदान करने की अपील की गई है।

-----------------------

लोगों ने किया खरना का प्रसाद ग्रहण, पहली अ‌र्घ्य आज

संसू, रोह : प्रखंड में लोक आस्था का महापर्व चैती छठ के दूसरे दिन व्रतियों ने खरना पूजा किया। घरों में छठ मइया के गीत से माहौल भक्तिमय हो गया। व्रतियों ने दिन भर उपवास रख कर शाम में पूजा कर रोटी और खीर का प्रसाद ग्रहण किए। नए ईंट व मिट्टी के बने चूल्हे पर आम की लकड़ी जला खरना का प्रसाद बनाए जाने की परंपरा है। खरना के बाद छठव्रती 36 घंटे तक निर्जला उपवास पर रहेंगे। रविवार को पहला अ‌र्घ्य दिया जाएगा। सोमवार को उगते सूर्य को अ‌र्घ्य देने के बाद व्रती अपना उपवास तोड़ेंगे। गौरतलब हो कि पिछले वर्ष भी कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को कम करने को लेकर लॉकडाउन लगाया गया था। जिसके चलते घरों में ही भगवान भास्कर को अ‌र्घ्य दिया गया था। उसी प्रकार इसी बार भी बढ़ते संकमण के चलते घरों में ही अ‌र्घ्यदान की तैयारी की गई है।

---------

छठ व्रतियों ने किया खरना

संसू, कौआकोल : छठ महापर्व के अवसर पर व्रतियों ने खरना पूजा किया। शनिवार को उपवास रखने के बाद सायं काल में व्रतियों ने स्नान कर पवित्रता पूर्वक अरवा चावल, दूध तथा मीठा से खीर का निर्माण कर भगवान भास्कर की अराधना की और खरना का प्रसाद ग्रहण किया। जिसके बाद परिवार जनों एवं सगे संबंधियों के बीच प्रसाद का वितरण किया।

-------------

खरना पूजा के साथ ही 36 घंटे का उपवास शुरू

संसू, नारदीगंज : चार दिवसीय चैती छठपर्व को लेकर प्रखंड के विभिन्न गांवों में खरना पूजा किया गया। सुबह होते ही व्रती व श्रद्धालु भगवान सूर्यदेव की पूजा अर्चना की तैयारी में जुट गए। शाम में अरवा चावल, चना दाल, पीठा, खीर, रसिया, पुड़ी, मीठा का नैवेद्य बनाया और भगवान भास्कर को अर्पण किया। इसके बाद व्रतियों ने स्वयं प्रसाद ग्रहण किया। फिर 36 घंटे का उपवास शुरू किया। इधर, व्रतियों ने अपने घर में भगवान भास्कर को अ‌र्घ्यदान की तैयारी की है। कई व्रतियों ने अपने-अपने घर के बाहर गड्ढा बनाया है, ताकि उसमें पानी को भरकर अ‌र्घ्यदान कर सकें। वहीं कई लोगों ने अपने घरों की छतों पर तैयारी की है। नारदीगंज बाजार में धनंजय कुमार, मंटू कुमार, शंकर प्रसाद ने बताया कि उन्होंने अपने घरों के बाहर अ‌र्घ्यदान की तैयारी की है। कोरोना संक्रमण के मद्देनजर छठ घाटों पर जाने की मनाही है। इसलिए अपने स्तर पर तैयारी की है, ताकि अ‌र्घ्यदान में कोई परेशानी नहीं हो।