लॉकडाउन में चार घंटे की छूट के दौरान उमड़ रही भीड़

लॉकडाउन में चार घंटे की छूट के दौरान उमड़ रही भीड़

नवादा। पकरीबरावां प्रखंड में चार घंटे के लॉक डाउन में रिलीफ के दौरान नियमों का खुल्लमखुल्ला उल्लंघन हो रहा है।

JagranTue, 18 May 2021 12:48 AM (IST)

नवादा। पकरीबरावां प्रखंड में चार घंटे के लॉक डाउन में रिलीफ के दौरान नियमों का खुल्लमखुल्ला उल्लंघन हो रहा है। सरकार द्वारा जारी नए गाइड लाइन में ग्रामीण बाजारों में सुबह 8-12 बजे दोपहर तक दुकानें खुलनी है, लेकिन प्रखंड मुख्यायलय सहित धमौल बाजार तथा गुलनी चर्च बाजार में सुबह 6 बजे से ही सभी प्रकार की दुकानें जेवर,मिठाई, कपड़ा,मनिहारी,जूता-चप्पल आदि की दुकानें भी सुबह 6 बजे से ही खुल जाती है। दुकानों के खुल जाने से बाजार में बढ़ती भीड़ को लेकर लोग फिजिकल डिस्टेंडिग को भी भूल जाते हैं। एक्का-दुक्का को छोड़ कर किसी के पास मास्क चेहरे पर नजर नहीं आता है। यहां तक कि दुकानदार भी मास्क नहीं लगाते हैं। -------------- लापरवाह दुकानदार प्रशासन के आंखों में झोंक रहें है धूल - लापरवाह दुकानदार प्रशासन की आंखों में झोंक धूल झोंक कर शटर के अंदर ही खुलेआम दुकानदारी कर रहे है। ये दुकानदार प्रशासन के वाहन को देखते ही सभी ग्राहक को दुकान के अंदर कर शटर को लगा देते हैं और फिर आराम से दुकानदारी करते हैं। चाहे वह कपड़े का दुकान हो या तो फिर जेवर,मिठाई,सैलून आदि की ही दुकान क्यों न हो। कुछ दुकानदार तो अपने दुकान में ताला मारकर अपने-अपने घर मे ही दुकानदारी कर रहे हैं। प्रखंड मुख्यायलय के सोनारटोली इन दिनों एक जेवर का नया बाजार का रूप ले लिया है। क्योंकि अधिकांश जेवर दुकानों के मालिक का घर इसी मुहल्ले में रहने के कारण सभी इसी मुहल्ले में ही अपनी दुकान को खोल रखे हैं। हालांकि इस तरह की दुकान कोयरी टोला और लोहारटोली में है परन्तु इक्का-दुक्का। ------------------ दुकानों की चाभी को जब्त कर हो रही है खानापूर्ति -प्रखंड मुख्यायलय में पुलिस के द्वारा दुकानदार की चाभी को लेकर सिर्फ खानापूर्ति की जाती रही है। इनके द्वारा चाभी लेने के बाद उसे कुछ छनों के बाद या तो फिर देर शाम तक उसकी चाभी को दुकनदार के हवाले कर दिया जाता है। वहीं बिना पैरवी वाले के दुकानदार को चाभी नहीं लौटाया जाता है। कई दुकानदार तो पुलिस को डुप्लीकेट चाभी थमा देते हैं। हालांकि सीओ के द्वारा सील की गई दुकान में विधिवत रूप से कपड़े लगाकर किया जाता है और उसका फोटो खींचकर उसे मीडिया को भी शेयर किया जाता है। ---------------------------------- उमड़ती भीड़ से लगता है महाजाम

बाजार को दिनभर में मात्र चार घंटे सुबह 8-12 बजे तक ही खुलती है। इस दौरान ग्राहकों की उमड़ती भीड़ के कारण आवागमन बाधित हो जाती है। आवागमन के बाधित होने से लोग परेशान हो जाते हैं। प्रचंड गर्मी से लोग तो और ज्यादा परेशान हो जाते हैं। ज्यों ही घड़ी का काटा दोपहर 12 बजे पर पंहुचता है, भीड़ छटने लगती है। यह हाल तब है जबकि बीडीओ डॉ अखिलेश कुमार के द्वारा ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से हमेशा इस महामारी को लेकर जागरूकता संदेश प्रसारित किया जा रहा है। जाम हमेशा वारिसलीगंज मोड़ से बस स्टैंड तक लगती है। यह बाजार नवादा, नालंदा व जमुई जिले की सीमा पर हाने के कारण छोटी से बड़ी वाहनों का आवागमन ज्यादा होता है। फुटपाथी दुकानदार के आलावा फल,,सब्जी सहित अन्य ठेला चालक रोड की किनारे ही अपनी उत्पाद को रख देते हैं जिसके कारण वाहनों का आवागमन में बाधा उत्पन्न होता है। जिसके कारण बाजार में जाम तो कभी-कभी महाजाम का रूप ले लेता है। ---------------- क्या कहते हैं फुटपाथी -इस बाबत फुटपाथी बिरेन्द्र कुमार,मो.शाहिद मो.कैशर,इम्तियाज ने बताया कि सब्जी, फल,मांस-मछली के सैकड़ों लोग फुटपाथ पर बेचकर अपना जीवन-यापन कर रह हैं। हमलोगों को स्थाई जगह नहीं है। अगर सरकार के द्वारा कंही जगह मिल जाए तो हमलोग स्वत: वहां चले जाएंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.