पुण्यतिथि पर याद किए गए बिहार केसरी डॉ. श्रीकृष्ण सिंह

पुण्यतिथि पर याद किए गए बिहार केसरी डॉ. श्रीकृष्ण सिंह

जासंनवादा बिहार के पूर्व प्रथम मुख्यमंत्री डॉ.श्रीकृष्ण सिंह की पुण्यतिथि जिला कांग्रेस पार्टी क

JagranSun, 31 Jan 2021 11:22 PM (IST)

जासं,नवादा: बिहार के पूर्व प्रथम मुख्यमंत्री डॉ.श्रीकृष्ण सिंह की पुण्यतिथि जिला कांग्रेस पार्टी कार्यालय में रविवार को मनाई गई। अध्यक्षता पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष बंगाली पासवान ने की। सर्वप्रथम उनके चित्र पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किया गया। कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि बिहार केसरी डॉ.श्रीकृष्ण सिंह एक महान स्वतंत्रता सेनानी थे। साथ ही बिहार राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री बने। उनके सहयोगी के रूप में अनुग्रह नारायण सिंह उनके मंत्रिमंडल में हमेशा साथ रहे। उनके कार्यकाल में बिहार में उद्योग, कृषि, शिक्षा,सिचाई,स्वास्थ,कला व सामाजिक क्षेत्र में की गई उल्लेखनीय कार्य हुआ। उनमें आजाद भारत की पहली रिफाइनरी बरौनी ऑयल,सिदरी व बरौनी में रासायनिक खाद कारखाना ,एशिया का सबसे बड़ा इंजीनियरिग कारखाना, भारी उद्योग निगम हटिया,स्टील प्लांट बोकारो,बरौनी डेयरी आदि की स्थापना की गई। आजादी के बाद गंगोत्री से गंगासागर के बीच प्रथम रेल-सह-सड़क पुल राजेंद्र पुल, कोसी प्रोजेक्ट, भुसावर का एग्रीकल्चर कॉलेज, बिहार भागलपुर विश्वविद्यालय आदि स्थापित किए गए। उनके कार्यकाल में संसद के द्वारा नियुक्त फोर्ड फाउंडेशन के अर्थशास्त्री श्री पल्लवी ने अपनी रिपोर्ट में बिहार को देश का सबसे बेहतर शासित राज्य माना था। और बिहार को देश की दूसरी सबसे बेहतर अर्थव्यवस्था बताया था। लेकिन आज की स्थिति देखने व समझने लायक है। इसके अलावा उनके जीवनी पर विस्तार से चर्चा की गई। मौके पर पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष राजिक खां, नरेंद्र कुमार,प्रमोद कुमार,अरुण कुमार,राजू यादव,नवीन पासवान, जमाल हैदर समेत अन्य लोग शामिल थे।

----------------------------

जन्मसथली खनवां में पूर्व विधायक अनिल सिंह ने किया माल्यार्पण

संसू, नरहट : बिहार केसरी श्री बाबू को आधुनिक बिहार के निर्माता के रूप में जाना जाता है। अधिकांश लोग उन्हें सम्मान से बिहार केसरी और श्री बाबू के नाम से संबोधित करते हैं। श्री बाबू जनजन के नेता थे। उक्त बातें रविवार को खनवां में डॉ श्रीकृष्ण सिंह की पुण्यतिथि के अवसर पर उनके प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद लोगों को सम्बोधित करते हुए हिसुआ के पूर्व विधायक अनिल सिंह ने कही। उन्होंने कहा कि आधुनिक बिहार के निर्माता और सामाजिक समरसता के अभूतपूर्व योगदान अगर देखा जाए तो उन्होंने देवघर मंदिर में अनुसूचित वर्ग का प्रवेश, जमींदारी उन्मूलन, नमक सत्याग्रह जैसे कई उदाहरण उनके जीवन पर दिया जा सकता है। पूर्व विधायक ने श्री बाबू को भारत रत्न देने की मांग फिर से दुहरायी। उन्होंने कहा कि जब हम सदन में थे तब भी इसको लेकर सरकार के पास प्रस्ताव रखा था और अब सदन में नही हूं तो अपनी पार्टी के माध्यम से इसको हर स्तर तक पहुंचाएंगे। श्रीकृष्ण सिंह फाउंडेशन के सचिव संतोष कुमार ने कहा कि श्री बाबू संघर्ष शील, जुझारू और दूरदर्शी राज नेता थे। श्री बाबू सामाजिक न्याय एवं साम्प्रदायिक सद्भाव के भी प्रणेता समझे जाते हैं। उन्होंने समाज के सभी वर्गों के संतुलित विकास पर ध्यान देते हुए बिहार और देश को बहुत कुछ दिया। इस अवसर पर कई वक्ताओं ने श्री बाबू के जीवनी पर विस्तार पूर्वक प्रकाश डाला। इस मौके पर जिला पार्षद वीरेंद्र सिंह, खनवां मुखिया शंकर रजक, परमानंद भास्कर, बिगन सिंह, लव कुश भास्कर, पूर्व हिसुआ प्रमुख रंजन शाही, देवेंद्र सिंह, कपिल सिंह आदि मौजूद थे। आपको बताते चलें कि बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केसरी डॉ श्रीकृष्ण सिंह का ननिहाल खनवां है। खनवां में ही श्री बाबू का जन्म हुआ था। पुण्यतिथि के अवसर पर दिन भर गण्यमान्य लोगों के द्वारा श्री बाबू के प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि देने का सिलसिला चलता रहा।

----------------------

सामान्य जाति संघर्ष मोर्चा ने दी श्रद्धांजलि

नवादा : सामान्य जाति संघर्ष मोर्चा के सदस्यों ने श्रीकृष्ण सिंह स्मारक भवन में श्रीबाबू की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस दौरा मोर्चा के संयोजक राजेश कुमार श्री ने श्रीबाबू को भारत रत्न देने की मांग की। कहा कि दमनकारी अत्याचारी अंग्रेजों से गांधी जी के विचार सत्य अहिसा से लड़ाई लड़ने का बिहार में नेतृत्व करने वाले आधुनिक बिहार के निर्माता व प्रथम मुख्यमंत्री बिहार केसरी डॉक्टर श्री कृष्ण सिंह जी भारत के रत्न थे और उन्हें यह सम्मान मिलना चाहिए।

--------------

अधिवक्ता संघ ने दी श्रद्धांजलि

नवादा :जिला अधिवक्ता संघ के सचिव संत शरण शर्मा के नेतृत्व में श्रीबाबू को श्रद्धांजलि दी गई। पुरानी कचहरी रोड में श्रीबाबू की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। श्रीशर्मा ने उनके व्यक्तित्व व कृतित्व की चर्चा करते हुए कहा कि बिहार में उनके किए गए कार्य आज भी सर्वत्र दिखाई पड़ता है। मौके पर अधिवक्ता चंद्रप्रकाश, राजेश कुमार, कुणाल कुमार, रौनक कुमार, अमित कुमार, रोहित कुमार, भोला, राकेश सिंह, मदन सिंह, संजय सिंह सहित दर्जनों गणमान्य लोग उपस्थित थे।

----------------------------

श्रद्धा भाव से मनी बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री डॉ श्रीकृष्ण सिंह की पुण्यतिथि

संसू, वारिसलीगंज : बिहार के प्रथम मुख्यमंत्री डॉ श्रीकृष्ण सिंह की पुण्यतिथि श्रद्धा भाव के साथ स्थानीय जिला परिषद डाक बंगला में रविवार को मनाई गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता युवा नेता श्रवण सिंह ने की। मौके पर क्षेत्र के बुद्धिजीवियों, सामाजिक राजनैतिक कार्यकर्ताओं तथा शिक्षाप्रेमियां ने उनके चित्र पर माल्यार्पण किया। इस दौरान वक्ताओं ने उनके व्यक्तित्व व कृतित्व पर विस्तार से चर्चा किया। कहा गया कि श्रीबाबू गरीब गुरबों के मसीहा थे। आज वारिसलीगंज इलाके के किसानों की खुशहाली श्री बाबू की ही देन है। सकरी नदी में पौरा के पास से निकली पूर्वी केनाल (नहर) जो उनके पैतृक गांव बरबीघा के मौउर तक गई उसका निर्माण कार्य श्री बाबू के द्वारा करवाया गया था। जिस कारण वारिसलीगंज का इलाका सिचाई के मायने में संपन्न है। आज वारिसलीगंज के चीनी मिल का अस्तित्व खतरे में है। श्रीबाबू के प्रयास बाद मिल की स्थापना वारिसलीगंज की गई थी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.