नालंदा कालेज के डा. बिनित बनाए गए नोडल पदाधिकारी

बिहारशरीफ। वर्ष 2022 में भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं। इसे ऐतिहासिक बनाने के लिए अभी से कार्यक्रमों की शुरुआत हो चुकी है। बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति पूरे साल तीन चरणों में कार्यक्रम कराएगा। इंडिया एट 75 के नाम से चलने वाले इस कार्यक्रम में राज्य के 75 महाविद्यालयों और 75 विद्यालयों को शामिल किया गया है।

JagranSun, 01 Aug 2021 11:28 PM (IST)
नालंदा कालेज के डा. बिनित बनाए गए नोडल पदाधिकारी

बिहारशरीफ। वर्ष 2022 में भारत की आजादी के 75 वर्ष पूरे हो रहे हैं। इसे ऐतिहासिक बनाने के लिए अभी से कार्यक्रमों की शुरुआत हो चुकी है। बिहार राज्य एड्स नियंत्रण समिति पूरे साल तीन चरणों में कार्यक्रम कराएगा। इंडिया एट 75 के नाम से चलने वाले इस कार्यक्रम में राज्य के 75 महाविद्यालयों और 75 विद्यालयों को शामिल किया गया है। प्रथम चरण की प्रतियोगिताएं 12 अगस्त से शुरू होकर 20 अगस्त के बीच होनी है। उद्घाटन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव उद्घाटन करेंगे। जिले में एकमात्र नालंदा कॉलेज को इसके लिए चुना गया है। पहले चरण में शॉर्ट वीडियो प्रतियोगिता कराई जाएगी। द्वितीय चरण की प्रतियोगिता 12 अक्टूबर से 20 अक्टूबर तक होनी है, जिसका उद्घाटन केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री करेंगे। जिसमें छात्रों के बीच पोस्टर मेकिग प्रतियोगिता कराई जाएगी। तीसरे एवं अंतिम चरण की प्रतियोगिता जनवरी से होकर मार्च 2022 तक चलेगी। उद्घाटन केंद्रिय स्वास्थ्य मंत्री करेंगे। जिसमें विभिन्न संस्थानों में सेमिनार और परिचर्चा और भाषण प्रतियोगिताएं होंगी। नालंदा जिले में इस पूरे कार्यक्रम को सफलतापूर्वक कराने के लिए नालंदा कालेज के राजनीति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डा बिनित लाल को बनाया गया है। इनके संयोजन में एक समिति भी बनायी गई है। समिति में जिला यक्ष्मा पदाधिकारी सह एड्स नियंत्रण पदाधिकारी, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, रक्त अधिकोष तथा जिला युवा पदाधिकारी, नेहरू युवा केंद्र भी हैं। डा. बिनित ने इतनी बड़ी जिम्मेदारी देने के लिए समिति को धन्यवाद दिया एवं कहा कि जल्द ही समिति की बैठक बुलाकर सब चीजें तय कर ली जाएगी।

कवियों ने धूमधाम से मनाई मुंशी प्रेमचंद जयंती

नालंदा जिला हिदी साहित्य सम्मेलन की ओर से स्थानीय हाजीपुर मुहल्ला स्थित किड्ज केयर कान्वेंट में उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद की 140वीं जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस मौके पर दो सत्रीय कार्यक्रम रखा गया। पहले सत्र में विचार गोष्ठी एवं द्वितीय सत्र में काव्य पाठ हुआ। गोष्ठी में प्रेमचंद की प्रगतिगामी ²ष्टि पर परिचर्चा की गई। गोष्ठी की अध्यक्षता नालंदा जिला हिदी साहित्य सम्मेलन के अध्यक्ष विनय कुमार ने की। जबकि मंच संचालन कवि महेंद्र कुमार विकल ने किया।

गोष्ठी की शुरूआत संयुक्त रूप से मुंशी प्रेमचंद की मूर्ति पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पण कर किया गया।

गोष्ठी में विषय प्रवेश महेंद्र कुमार 'विकल' ने करवाया। अध्यक्षता करते हुए अध्यक्ष विनय कुमार ने कहा कि प्रेमचंद की प्रगतिगामी ²ष्टि तभी प्रासंगिक बनी रह पाएगी, जब आज के परिवेश में नए पाठक वर्ग तैयार होंगे। मुंशी प्रेमचंद ने उस समय समाज में फैली कुरीतियों को अपनी रचनाओं में कुछ इस तरह से गढ़ा कि उनकी रचनाओं को आज भी पढ़ने और देखने वालों में सजीव प्रतीत होता है।

मगही कवि उमेश प्रसाद ''उमेश'' ने कहा कि साहित्य समाज का आइना होता है और साहित्यकार उस आईने को दिखाने वाला। कलम के सिपाही उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद इस श्रृंखला के वे चमकते सितारे हैं, जिनका प्रकाश कभी धूमिल नहीं होगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.