विद्यार्थी पढ़ने को आतुर पर स्कूलों में भरा पानी

जिले में शनिवार से 9वीं व 10वीं की कक्षाएं प्रारंभ हुईं।

JagranSun, 08 Aug 2021 01:33 AM (IST)
विद्यार्थी पढ़ने को आतुर पर स्कूलों में भरा पानी

मुजफ्फरपुर : जिले में शनिवार से 9वीं व 10वीं की कक्षाएं प्रारंभ हुईं। शनिवार दिन होने के कारण अधिकतर स्कूलों में कक्षाएं नहीं चलीं। लेकिन, प्राइवेट स्कूलों में पूरे नियम के साथ कक्षाओं का संचालन किया गया। सरकारी विद्यालयों में कुछ विद्यार्थी कक्षा संचालन की जानकारी लेकर चले गए। विद्या विहार, डीएन हाईस्कूल, बीबी कालेजिएट, मुखर्जी सेमिनरी में करीब दो दर्जन विद्यार्थियों का आगमन हुआ। वहीं, जिला स्कूल के सभी कमरे में पानी भरे होने के कारण विद्यार्थी लौट गए। चंदवारा के संजय कुमार अपने पुत्र को लेकर विद्यालय में पढ़ाई के बारे में समझने आए थे। शिक्षक तो आए थे, लेकिन कक्षाओं में पानी भरे होने के कारण सभी कैरम बोर्ड पर खेलते दिखे। बच्चे पढ़ने को आतुर थे, लेकिन कक्षाएं नहीं चलीं। पूरे कैंपस में पानी भरे होने के कारण अधिकतर विद्यार्थी साइकिल से आए थे।

चैपमैन स्कूल बना नर्क

चैपमैन स्कूल पिछले दो महीने से नर्क में तब्दील है। नाला का पानी सड़क पर जमा होने के कारण गाड़ी के चलने से हिलकोरे मारकर कैंपस में घुस जाता है। पूरे कैंपस में पानी भरा हुआ है। 5 अगस्त में इस स्कूल की बच्चियां प्रशासन को राष्ट्रीय गान आदि कार्यक्रमों में मदद पहुंचाती हैं। लेकिन, विद्यालय की इतनी खराब स्थिति की चिता किसी अधिकारी या जनप्रतिनिधि को नहीं है। सांसद, विद्यायक किसी आयोजन होने पर उक्त विद्यालय में केवल फीता काटकर उद्घाटन करने जाते हैं। डीएम प्रणव कुमार भी अटल टिकरिग लैब का वहां उद्घाटन कर चुके हैं, लेकिन जलजमाव के कारण विद्यालय का संचालन नहीं हो रहा, इसकी तनिक चिता नहीं। शनिवार को प्रथम दिन करीब सौ लड़कियां पहुंचीं थीं। पानी वाले हिस्से को छोड़ बरामदे पर राष्ट्रीय गान के साथ प्रार्थना कराकर उन्हें एक सप्ताह तक नहीं आने को कहा गया। विद्यालय के हेडमास्टर मदन चौधरी ने कहा कि छात्राओं को नहीं आने को कहा गया है। पूरे कैंपस में पानी भरा हुआ है। शिक्षक बैठ नहीं पा रहे। पिउन का पैर पानी में सड़ गया। नाली के कारण भारी तबाही है।

प्राइवेट स्कूलों में सावधानी से चलीं कक्षाएं

प्राइवेट स्कूलों में कोविड-19 का पालन कर पूरी सावधानी से 9वीं व 10वीं कक्षाओं का संचालन किया गया। डीएवी, इंद्रप्रस्थ, होली मिशन आदि स्कूलों में विद्यार्थी आए, लेकिन उनकी संख्या काफी कम रही। इंद्रप्रस्थ इंटरनेशल स्कूल के निदेशक सुमन कुमार ने कहा कि सोमवार से विद्यार्थियों की संख्या बढ़ेगी। इधर होली मिशन सीनियर सेकेंड्री के निदेशक डा. जीके मल्लिक ने कहा कि, उनके यहां विद्यार्थियों की अच्छी संख्या थी। सभी को त्रिस्तरीय जांच से गुजारा गया। कक्षाएं 50 फीसद उपस्थिति के साथ संचालित की गई। संत जेवियर्स सहित अन्य निजी विद्यालयों में भी बच्चे आए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.