Water Conservation: कब्जे से मुक्त हों मुजफ्फरपुर के कुएं, जीर्णोद्धार को उठाए जाएं कदम

कुओं का जीर्णाद्धार हो जाता है तो जल संरक्षण के प्रयास को बल मिलेगा।

कंपनीबाग प्रभात सिनेमा चौक चतुर्भुज स्थान चौक पर लोगों ने कुएं पर कब्जा कर उसपर दुकानें खोल ली है। वर्षा जल संचय के लिए हो कुएं का इस्तेमाल। शुक्ला रोड एवं परती टोला में लोगों ने मिलकर कुआं का जीर्णोद्धार किया है।

Ajit KumarMon, 12 Apr 2021 09:35 AM (IST)

मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। शहर में दो सौ से अधिक सार्वजनिक कुएं हैं। इनमें से कुछ को लोगों ने कचरा डालकर भर दिया है तो कुछ को कब्जा कर उसके ऊपर दुकान खोल लिया है, लेकिन कुछ ऐसे लोग भी हैं जिन्होंने मिलकर अपने इलाके के कुआं का जीर्णोद्धार कर जल संरक्षण की मिसाल पेश की है। कंपनीबाग, प्रभात सिनेमा चौक, चतुर्भुज स्थान चौक पर लोगों ने कुएं पर कब्जा कर उसपर दुकानें खोल ली है। शुक्ला रोड एवं परती टोला में लोगों ने मिलकर कुआं का जीर्णोद्धार किया है। यदि शहर के सभी कुएं का जीर्णोद्धार कर वर्षा जल संचित किए जाए तो आसपास के इलाके में भू-जल स्तर में गिरावट नहीं होगी। सामाजिक कार्यकर्ता पंकज कुमार का कहना है कि लोग इतने स्वार्थी हो गए हैं कि कुआं तक को नहीं छोड़ रहे हैं। शासन-प्रशासन को चाहिए कि वह सभी कुआं को अतिक्रमण मुक्त कराए। सभी कुआं का सरकारी खर्च पर जीर्णोद्धार कराए। वार्ड पार्षद राकेश कुमार सिन्हा पप्पू ने कहा कि शहर के कुओं के जीर्णोद्धार के लिए सरकार ने जल-जीवन- हरियाली कार्यक्रम के तहत निगम को राशि आवंटित किया है। शहर के 81 कुआं के जीर्णोद्धार के लिए निविदा के माध्यम से एजेंसी का चयन कर काम सौंपा गया था लेकिन एजेंसी ने काम नहीं किया। फिर से निविदा निकाल एजेंसी का चयन किया जा रहा है। इस बार काम हो इसलिए एजेंसी चयन में ध्यान देना होगा। यदि इन कुओं का जीर्णाद्धार हो जाता है तो जल संरक्षण के प्रयास को बल मिलेगा। 

इंजीनियर मुकेश कुमार ने कहा कि पूरी तरह भर दिए गए कुएं का इस्तेमाल सोख्ता के रूप में किया जा सकता है। ऐसे कुओं की तलाश करनी चाहिए। शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्र के कुओं के जीर्णोद्धार पर ध्यान दिया जाना चाहिए।  

यह भी पढ़ें: मुजफ्फरपुर में साली की मौत मामले में जीजा पर एफआइआर, जानिए इस मर्डर का तीसरी महिला से कनेक्शन

यह भी पढ़ें: नटवरलाल की आत्मा मुजफ्फरपुर के इस व्यक्ति में घुसी, बेच दी सुन्नी वक्फ बोर्ड की जमीन

यह भी पढ़ें: मुजफ्फरपुर के निजी स्कूल संचालकों ने कहा, ऑनलाइन पढ़ाई से बच्चों के मस्तिष्क पर पड़ता बुरा प्रभाव

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.