Muzaffarpur: शातिर चोरों का उत्पात जारी, हर रात्रि ताले तोड़कर दे रहे वारदात को अंजाम

मुजफ्फरपुर में शातिर चोरों का उत्पात जारी। (क्राइम लोगो)

Muzaffarpur Crime News शातिर चोरों का उत्पात जारी है। हर रात्रि गश्ती व्यवस्था को धता बताते हुए ताले तोड़कर चोरी की वारदात को अंजाम दिया जा रहा है। बावजूद पुलिस की गश्ती व्यवस्था को दुरुस्त करने की कोशिश नहीं की जा रही है।

Murari KumarWed, 03 Mar 2021 02:48 PM (IST)

मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। शातिर चोरों का उत्पात जारी है। हर रात्रि गश्ती व्यवस्था को धता बताते हुए ताले तोड़कर चोरी की वारदात को अंजाम दिया जा रहा है। बावजूद पुलिस की गश्ती व्यवस्था को दुरुस्त करने की कोशिश नहीं की जा रही है। नतीजा चोरी की घटनाएं में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। पुलिस है कि मामला दर्ज करने के बाद कार्रवाई करना उचित नहीं समझती। रिकार्ड पर गौर करें तो पिछले पंद्रह दिनों में विभिन्न थाना क्षेत्रों से 15 से 20 लाख की संपत्ति की चोरी की जा चुकी है। लेकिन एक भी मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

 इसके कारण कई चोरी की घटना के बाद लोग थाने में रिपोर्ट दर्ज कराना भी उचित नहीं समझते। बता दें कि शनिवार की रात शातिर चोरों ने सदर थाना क्षेत्र में बैंककर्मी समेत दो लोगों के घरों से लाखों की संपत्ति चोरी कर ली। मगर गश्ती पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। मामले को लेकर अतरदह सदभावना नगर के बैंककर्मी चंदन कुमार ने प्राथमिकी दर्ज कराई है। बताया कि वे मोतिहारी में पंजाब नेशनल बैंक में कार्यरत हैं। सपरिवार वहीं पर थे। मकान में किए किराएदार हैं। वे भी अपने परिवार के साथ बाहर गए थे।

यह भी पढ़ें: Darbhanga: यह नाज‍िर तो बड़ा ढीठ न‍िकला! दफ्तर में बैठकर खुलेआम र‍िश्‍वत में म‍िले नोट ग‍िन रहा

यह भी पढ़ें: यह मुजफ्फरपुर है, यहां पुल‍िस-शराब माफ‍िया की म‍िलीभगत है और यहां 'मौत' की PAWRI HO RAHI HAI

यह भी पढ़ें: East Champaran: त‍िजोरी खाेलोगे या खोपड़ी खोलूं! मैनेजर ने बदमाशों को चाबी दी और हो गई 11 लाख की लूट

 घर में ताला बंद था। इसी का फायदा उठाकर चोरों ने ताला तोड़कर घटना को अंजाम दिया। उनके कमरे से 25 हजार कैश, एक मंगलसूत्र, सोने की चेन और एक अंगुठी समेत डेढ़ लाख से अधिक की संपत्ति चोरी कर ली। वहीं किराएदार के फ्लैट से भी एक लाख का सामान चोरी कर ली गई। इसके अलावा हर दिन बाइक चोरी की घटनाएं भी घटित हो रही है। लेकिन पुलिस की तरफ से रोकथाम के लिए कोई कारगर उपाय नहीं निकाला जा रहा है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.