दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

BRA Bihar University: वोकेशनल कोर्स में नामांकन के लिए छात्रों को करना होगा इंतजार, जानिए वजह

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर की फाइल फोटो।

BRA Bihar UniversityMuzaffarpur बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों में वोकेशनल कोर्स में नामांकन के लिए छात्रों को और इंतजार करना होगा। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण कॉलेज बंद हैं। अधिकतर कॉलेजों में ऑनलाइन आवेदन की व्यवस्था नहीं।

Murari KumarMon, 17 May 2021 07:11 AM (IST)

मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। BRA Bihar University, Muzaffarpur: बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के विभिन्न कॉलेजों में वोकेशनल कोर्स में नामांकन के लिए छात्रों को और इंतजार करना होगा। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण कॉलेज बंद हैं। ऐसे में नामांकन फॉर्म उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। जबकि, विश्वविद्यालय की ओर से 19 मई तक आवेदन की तिथि निर्धारित की गई थी। विवि की ओर से पिछले महीने बीबीए, बीसीए, बीएमसी, सीएनडी, आइएमबी, फिश एंड फिसरीज समेत दर्जनभर से अधिक वोकेशनल कोर्स में दाखिले के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू की गई थी। कहा गया था कि छात्र कॉलेजों में जाकर आवेदन कर सकते हैं या जिन कॉलेजों की ओर से ऑनलाइन आवेदन का विकल्प होगा। वहां ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते हैं। अधिकतर कॉलेजों में इन कोर्स में ऑफलाइन मोड में ही दाखिला लिया जाता है। विवि के निर्देश के ठीक बाद कोरोना संक्रमण के कारण कॉलेजों को बंद करना पड़ा। ऐसे में नामांकन की प्रक्रिया थम गई। अब विवि की ओर से कहा जा रहा है कि स्थिति सामान्य होने के बाद ही नामांकन की प्रक्रिया होगी।

कम नामांकन के कारण कई कॉलेजों में बंद होंगे वोकेशनल कोर्स 

बीआरए बिहार विवि के कई कॉलेजों में इसवर्ष आधा दर्जन से अधिक वोकेशनल कोर्स को बंद कर दिया जाएगा। विवि की ओर से इसपर विचार किया जा रहा है। बताया गया कि खासकर ग्रामीण क्षेत्र के कॉलेजों में कई वर्षों से 10 से भी कम छात्रों ने दाखिला लिया है। यूजीसी की ओर से जारी दिशानिर्देश में यह कहा गया है कि यदि लगातार तीन वर्षों तक इन कोर्सों में 10 से कम नामांकन होता है तो उस कोर्स को बंद कर दिया जाएगा। मुख्यालय के भी तीन कॉलेजों में वोकेशनल कोर्स के संचालन पर संकट मंडराने लगा है। यहां कई कोर्स ऐसे हैं जहां तीन-चार वर्षों से नामांकन का आंकड़ा दहाई अंकों में नहीं पहुंचा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.