चौदह लोकों में श्रेष्ठ है पृथ्वी, इसका संरक्षण जरूरी : राधा वल्लभ

चौदह लोकों में श्रेष्ठ है पृथ्वी, इसका संरक्षण जरूरी : राधा वल्लभ

लंगट सिंह महाविद्यालय के प्रागण में रविवार से श्रीमद्भागवत कथा का शुभारंभ हो गया। सबसे पहले कलश यात्रा निकाली गई।

JagranMon, 21 Dec 2020 02:12 AM (IST)

मुजफ्फरपुर। लंगट सिंह महाविद्यालय के प्रागण में रविवार से श्रीमद्भागवत कथा का शुभारंभ हो गया। सबसे पहले कलश यात्रा निकाली गई। इसके बाद शाति पाठ, मंगलाचरण व स्वस्ति वाचन से समस्त विश्व और राष्ट्र कल्याण का संकल्प लिया गया। कथा में व्यासपीठ से आए राधाबल्लभ दास देवाचार्य महाराज ने श्रीमद्भागवत पद्मपुराण में वíणत महात्म को सुनाया तो श्रद्धालु झूम उठे। उन्होंने कहा कि चौदह लोकों में यह पृथ्वी सबसे श्रेष्ठ है। इनका पूजन माता कहकर किया जाता है। इसका संरक्षण होना चाहिए। पृथ्वी पर मानव का जन्म दुर्लभ है। बताया कि श्रीमद्भागवत प्राणी मात्र का जैव धर्म है इसमें ही सनातन धर्म वíणत है। सत्यपथ पर चलने वाला ही जीवन में शाति पाता है और विजयी होता है। उन्होंने कहा कि हमें निंदा स्तुति से ऊपर उठकर सत्कर्म मार्ग का अनुसरण करते हुए नित्य लीला कथाओं का श्रवण चिंतन करने को कहा। दिनेश ने मधुर भक्ति पदों का गायन कर भक्तों को आह्लादित कर दिया। कथास्थल पर स्कैनर, सैनिटाइजर मास्क और हैंडवाश की व्यवस्था और पर्याप्त दूरी पर बैठने की गई थी। भाजपा जिलाध्यक्ष रंजन कुमार, एलएस कॉलेज के प्राचार्य डॉ.ओपी राय, आरबीबीएम कॉलेज की पूर्व प्राचार्य डॉ.शाता सिन्हा, शिक्षक नेता भूप नारायण पांडेय, रामनरेश मिश्रा, राजकिशोर ठाकुर, हरिश्चन्द्र सिंह, शरतचंद्र शर्मा, सुधीर कुमार, साकेत कुमार, उमाशकर शर्मा, विभु, अखिलेश यादव, संजय, ओझा, अखिलेश्वर मिश्र, जटाशकर राय, टुनटुन बाबू, अमर कुमार, साकेत कुमार, आनंद किशोर, भूपेंद्र नारायण, राम नरेश मिश्रा, राजीव कुमार, डॉ.राजेश अनुपम, डॉ.सुधीर कुमार सिंह, अमर कुमार, शरद चंद्र शर्मा, जितेंद्र कुमार आदि ने कार्यक्रम को सफल बनाने में अपनी भूमिका निभाई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.