सीतामढ़ी में झीम नदी का बढ़ रहा जलस्तर, बागमती कई स्थानों पर नीचे आई

Sitamarhi डुबाघाट व कटौधा में बागमती स्थिर है। वहीं अधवारा समूह की नदी सुंदरपुर पुपरी में भी भी स्थिर बताई गई है। लालबकेया नदी गुआबाड़ी में भी स्थिर पॉजिशन में है। इस बीच मूसलाधार बारिश के बाद तमाम इलाके जलजमाव की गिरफ्त में हैं।

Dharmendra Kumar SinghSat, 19 Jun 2021 04:08 PM (IST)
सीतामढ़ी में बार‍िश की वजह से नदी में उफान। जागरण

सीतामढ़ी, जासं। मानसून की मूसलाधार बारिश ने हर तरफ मुसीबत बढ़ा दी है। नदियों में तेजी से पानी भर रहा है। कुछ में उतार-चढ़ाव भी तेजी से हो रहा है। सोनबरसा की झीम नदी जहां स्थिर बनी हुई थी वह शुक्रवार से ही उफनाने लगी। सोनाखान, ढेंग, चंदौली में बागमती अब नीचे आई है। डुबाघाट व कटौधा में बागमती स्थिर है। वहीं अधवारा समूह की नदी सुंदरपुर, पुपरी में भी भी स्थिर बताई गई है। लालबकेया नदी गुआबाड़ी में भी स्थिर पॉजिशन में है। इस बीच मूसलाधार बारिश के बाद तमाम इलाके जलजमाव की गिरफ्त में हैं। शहर के वीआइपी मोहल्ले भी पानी से घिरने लगे हैं। शुक्रवार शाम अचानक तेज बरसात हुई। जिससे परेशानी और बढ़ गई। इस बीच मौसम विभाग का कहना है कि 23 जून तक मॉनसून के सक्रिय रहने की संभावना है। एक दो स्थानों पर मेघगर्जन एवं आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है।

सुप्पी में बागमती नदी का बायां तटबंध दे रहा खतरे को दावत

बागमती नदी के बाएं तटबंध के जीर्णशीर्ण अवस्था को लेकर लोगों का कलेजा कांप रहा है। तटबंध पर जगह-जगह रेन कट के चलते उसके टूटने की आशंका सता रही है। समय रहते मरम्मत कार्य नहीं होने से ये स्थिति उत्पन्न हुई है। बाढ़ का संकट सिर पर है और तटबंध की यह स्थिति किसी के लिए भी ङ्क्षचतजानक होगी। प्रखंड क्षेत्र के जुमला से अख्ता गांव तक करीब 15 किलोमीटर में पूर्व में बांधा गया तटबंध लगातार बारिश के कारण रेनकट से गड्ढे में तब्दील हो गया है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि बागमती ङ्क्षसचाई प्रमंडल द्वारा मार्च महीने में ही प्रखंड क्षेत्र के जमला, परसा से दक्षिण ढेंग, गम्हरिया, रामपुर कंठ, सोना खाता गांव के समीप 15 किलोमीटर में तटबंध पर बारिश के कारण रेनकोट को दुरुस्त करने के लिए टेंडर निकाल कर उसकी स्वीकृति दे दी गई थी। मगर, अभी तक यह काम पूरा नहीं हो पाया। बांध पर ईंट सोङ्क्षलग भी जगह-जगह से टूटकर उखड़ गई है। गांव वालों का कहना है कि 12 जून को जिलाधिकारी के निर्देश के आलोक में अनुमंडल पदाधिकारी सदर इस तटबंध का निरीक्षण करने आए थे। उन्होंने स्थानीय ग्रामीणों, माछुआरा आदि से मिलकर तटबंध के संबंध में फीडबैक लिया था। उपस्थित बागमती प्रमंडल के अधिकारियों को आवश्यक निर्देश भी दिए थे। तटबंध की नियमित रूप से निगरानी पर भी उन्होंने जोर दिया था। कटाव, रेन कट आदि को लेकर उपस्थित अधिकारियों एवं स्थानीय ग्रामीणों से उन्होंने बात भी की थी। यह भी कहा था कि निरीक्षण संबधित विस्तृत प्रतिवेदन जिलाधिकारी को सौंपेंगे। मगर, उसके बाद तटबंध की मरम्मति को लेकर कोई सरगर्मी नहीं देखी जा रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.