top menutop menutop menu

बीएसएनएल कर्मियों ने किया विरोध-प्रदर्शन

बीएसएनएल कर्मियों ने किया विरोध-प्रदर्शन
Publish Date:Fri, 14 Aug 2020 01:31 AM (IST) Author: Jagran

मुजफ्फरपुर : बीएसएनएल कर्मियों को ससमय वेतन भुगतान नहीं किए जाने व सांसद अनंत हेगड़े द्वारा दिए गए आपत्तिजनक बयान को लेकर गुरुवार को नेशनल फेडरेशन ऑफ टेलकम इंप्लाइज ने कंपनीबाग स्थित बीएसएनएल कार्यालय के प्रांगण में विरोध-प्रदर्शन किया। फेडरेशन के जिला सचिव नंदकिशोर सिंह ने बताया कि बीएसएनएल को निजी हाथों में बेचने की साजिश के तहत इसके कर्मियों को नाहक बदनाम किया जा रहा है। पहले तो इसके उत्थान के नाम पर जनवरी में 90 हजार कर्मचारियों को वीआरएस स्कीम के तहत सेवानिवृत्त कर कर्मचारी संगठनों को कमजोर किया गया। अब सेवानिवृत्ति के बाद बचे 66 हजार कर्मचारियों को समय पर वेतन भी नहीं दिया जा रहा। बीएसएनएल के उत्थान के लिए सरकार द्वारा दिए गए आश्वासन जैसे फोर जी आवंटन, बॉड निर्गत करना आदि में से एक भी कार्य पूरा नहीं किया गया है। अपने सीमित संसाधनों से आज कोरोना काल में भी बीएसएनएल कर्मी अच्छी सेवा देने के लिए तत्पर हैं। जबकि सांसद अनंत कुमार हेगड़े ने बीएसएनएल को बंद करने के साथ इसके कर्मियों के लिए आपत्तिजनक बयान दिया है। जिसके विरुद्ध में पूरे देश में विरोध प्रदर्शन किया गया है। इसमें मुख्य रूप से जिलाध्यक्ष सुनील कुमार सिंह, उपाध्यक्ष उमेश प्रसाद, कोषाध्यक्ष अनिल कुमार, महेश कुमार, जयप्रकाश, वीरेंद्र कुमार, नागमणि, राम कुमार सिंह, सुजीत कुमार, गोपाल सिंह, अरुण कुमार झा, बीबी शुक्ला, विनय कुमार, मो.अलाउद्दीन, कामेश्वर तिवारी आदि शामिल हुए।

ऋण वापसी को प्रदर्शन

ऐपवा के आह्वान पर जीविका समूह की महिलाओं ने मागों को लेकर धरना व प्रदर्शन किया। सरकार से जीविका व माइक्रो फाइनेंस का ऋण माफ करने की मांग की। ऐपवा की सुलेखा देवी ने कहा कि सरकार ने ऋण माफ नहीं किया तो आंदोलन तेज किया जाएगा। मौके पर भाकपा माले के प्रखंड सचिव रामबालक सहनी, वीरेंद्र पासवान, मो करीम, राजेश राम, मुन्नी देवी, रीता देवी, फूलो देवी, सुमित्रा देवी, नीलम देवी आदि मौजूद रहे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.