बाबा गरीबनाथ से मांगा चितन शिविर को सफल बनाने का आशीर्वाद

बाबा गरीबनाथ से मांगा चितन शिविर को सफल बनाने का आशीर्वाद

बाबा गरीबनाथ के आशीर्वाद से महेश प्रसाद सिंह साइंस कॉलेज में सात मार्च को आहूत ब्रह्मार्षि चितन शिविर सफल होगा।

JagranFri, 05 Mar 2021 01:06 AM (IST)

मुजफ्फरपुर : बाबा गरीबनाथ के आशीर्वाद से महेश प्रसाद सिंह साइंस कॉलेज में सात मार्च को आहूत ब्रह्मार्षि चितन शिविर सफल होगा। आयोजक भूमिहार ब्राह्माण सामाजिक फ्रंट के अध्यक्ष पूर्व मंत्री सुरेश कुमार शर्मा तथा स्वागताध्यक्ष अजीत कुमार ने गरीबनाथ मंदिर पहुंच कर बाबा को आमंत्रित किया और उनसे आशीर्वाद मांगा। दोनों पूर्व मंत्री के नेतृत्व में दो दर्जन से अधिक नेता एवं कार्यकर्ता डीएन हाई स्कूल मैदान से पदयात्रा कर बाबा गरीबनाथ मंदिर पहुंचे थे। कार्यक्रम का आमंत्रण बाबा के चरणों में समर्पित किया। मौके पर ब्रह्मार्षि नेता धर्मवीर शुक्ला, राम किशोर सिंह, कृष्णा सिंह, रानू शंकर, डॉ. हरेंद्र कुमार, डॉ.अरुण कुमार, शंभू शरण ठाकुर, केके प्रशांत, नवीन कुमार, गुड्डू ओझा मुखिया, संजीव कुमार अधिवक्ता, अंकेश कुमार, शांतनु सत्यम, सर्वेश रंजन, मनीष सिंह, हेमंत कुमार, विश्वमोहन कुमार, पप्पू सिंह आदि मौजूद रहे। प्रधान पुजारी पंडित विनय पाठक सहित कई विद्वान पंडितों ने पूजा अर्चना कराया। चितन शिविर की सफलता का आशीर्वाद दिया।

एकजुटता के अभाव में ब्रह्मार्षि समाज हाशिए पर

स्वामी सहजानंद सरस्वती स्मृति चिंतन शिविर की सफलता को लेकर भाजपा नेता शभू प्रसाद सिंह ने पारू एवं साहेबगंज विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के गावों में जनसंपर्क अभियान चलाकर 7मार्च को मुजफ्फरपुर चलने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि देश-परदेश के पैमाने पर आजादी की लड़ाई से लेकर बिहार के विकास में इस समाज की अहम भूमिका रही है। समाज के लोगों ने शिक्षा, स्वास्थ्य उद्योग से लेकर अन्य महत्वपूर्ण कायरें में भूमिका निभा इतिहास बनाया है। फिर भी एकजुटता के अभाव में राजनीतिक परिदृश्य से अलग-थलग पड़े हुए हैं। इस गौरवशाली इतिहास को वापस लाने के लिए आयोजित शिविर में साहेबगंज और पारू से समाज के तीन हजार लोग शामिल होंगे। जनसंपर्क में शशि रंजन सिंह, अरुण सिंह, सुधीर कुमार सिंह, आदित्य सिंह, दिवाकर मिश्र, मुन्ना सिंह, कनक सिंह, नारायण सिंह, अनिल सिंह, धीरज सिंह आदि थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.