गायघाट में आत्मदाह की धमकी पर प्रशासनिक महकमे में मचा हड़कंप

गायघाट में आत्मदाह की धमकी पर प्रशासनिक महकमे में मचा हड़कंप

गायघाट प्रखंड क्षेत्र के लोमा में पंचायत सरकार भवन निर्माण को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। गुरुवार को किसान रामाकात चौधरी के आत्मदाह की चेतावनी देने पर प्रशासनिक महकमा में हड़कंप मच गया।

Publish Date:Fri, 04 Dec 2020 02:15 AM (IST) Author: Jagran

मुजफ्फरपुर। गायघाट प्रखंड क्षेत्र के लोमा में पंचायत सरकार भवन निर्माण को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। गुरुवार को किसान रामाकात चौधरी के आत्मदाह की चेतावनी देने पर प्रशासनिक महकमा में हड़कंप मच गया। उनका आरोप है कि मुखिया पति मनोज सहनी ने उनकी निजी जमीन हड़पकर जेसीबी से पंचायत सरकार भवन तक जाने के लिए रास्ता बनवा रहे हैं। उन्होंने पूर्व में गायघाट सीओ व थानाध्यक्ष को आवेदन देकर इसकी शिकायत भी की थी। लेकिन, कोई सुनवाई नहीं हुई। इस पर गुरुवार को उन्होंने डीएम को फोन करके आपबीती सुनाई। उन्होंने कहा कि उनकी जमीन पर काम बंद नहीं किया गया तो गुरुवार को दोपहर एक बजे उसी जमीन पर आत्मदाह कर लेंगे। इस पर प्रशासन ने तुरंत संज्ञान लिया। आननफानन में गायघाट बीडीओ विमल कुमार व थानाध्यक्ष नरेंद्र कुमार ने मौके पर पहुंचकर किसान रामाकात चौधरी व ग्रामीणों से मिलकर आश्वासन दिया कि जबतक मापी नहीं हो जाती उक्त जमीन पर कोई काम नहीं होगा। इसके बाद सभी शात हुए।

बता दें कि बिहार सरकार के जलाशय में मिट्टी भराई कर पंचायत सरकार भवन बनाने का विरोध ग्रामीण शुरू से ही कर रहे हैं। उनका तर्क है कि जलाशय में मिट्टी भराई कर भवन बनवाना व नाला को भरकर रास्ता बनाना गलत है। यह बिहार सरकार के जल जीवन हरियाली योजना को ठेंगा दिखाने जैसा है। ग्रामीणों ने बीडीओ को बताया कि मुखिया पति भवन की ठीकेदारी कर मोटी रकम कमाना चाहते हैं। निजी लाभ के लिए वह प्रकृति व सरकार के खिलाफ कार्य कर रहे हैं। इस पर रोक लगाई जानी चाहिए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.