West Champaran: अब वाल्मीकिनगर में नेचर शाॅप, थारू महिलाओं के बनाए उत्पाद खरीद सकेंगे पर्यटक

West Champaran वीटीआर के सटे दर्जनों गांव में रहते हैं थारू उत्पादों की दूसरे शहरों में विशेष डिमांड वीटीआर प्रशासन इन गांवों को रोजगार से जोड़ने की पहल कर रहा है। अब थारू उत्पाद की ब्रांडिंग भी वीटीआर करेगा।

Dharmendra Kumar SinghFri, 03 Dec 2021 04:15 PM (IST)
वीटीआर प्रशासन अब पर्यटन के साथ लोगों का रोजगार भी बढ़ाएगा। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

पश्‍च‍िम चंपारण (बगहा), जासं। वीटीआर प्रशासन अब पर्यटन के साथ स्थानीय लोगों का रोजगार भी बढ़ाएगा। पर्यटक जंगल सफारी के साथ थारू महिलाओं के बनाए उत्पाद भी खरीद सकेंगे। इन सजावटी उत्पादों की शहरों में अच्छी मांग है। इसी को देखते हुए जंगल सफारी पर वीटीआर आने वाले सैलानियों के लिए ये उत्पाद उपलब्ध कराए जा रहे हैं। वीटीआर के जंगलों से सटे दर्जनों थारू गांव हैं। इन गांवों को वीटीआर प्रशासन रोजगार से जोड़ने की पहल कर रहा है। अब थारू उत्पाद की ब्रांडिंग भी वीटीआर करेगा। इस सत्र में इसे लेकर विशेष योजना बनाई गई है। थरुहट की महिलाए मूंज,जूट, बांस, लकड़ी, आदि के जरिए सजावटी सामान बनाती हैं। अब वे सब प्रोडक्ट वाल्मीकिनगर में मिल सकेंगे। इस बार स्थायी नेचर शॉप तैयार की जा रही है। इसमें पर्यटक थारू प्रोडक्ट की खरीदारी करेंगे। इससे थारू महिलाओं व ग्रामीणों की आमदनी भी बढ़ेगी और ब्रांडिंग भी होगी।

खूबसूरत प्राकृतिक कलाकारी का नमूना

थारू महिलाएं परंपरागत कसीदाकारी से बहुत खूबसूरत सजावटी सामान तैयार करती हैं। इसमें बांस की डलिया, फूलदान, पेपर ट्रे, टी ट्रे, बांस की माला, टोपी, गेहूं के डंठल की कलाकृतियां, बांस के आभूषण, थारू कलाकृतियां तैयार की जाती हैं।

कला और संस्कृति से परिचित कराने का प्रयास

वीटीआर में बड़ी संख्या में सैलानी वन्य जीव का दीदार करने पहुंचते हैं। उनका यहां आने का उद्देश्य थरुहट की सभ्यता, संस्कृति और कला से अवगत होना भी रहता है। हस्तकला के माध्यम से पर्यटकों कला और संस्कृति को आसानी से अवगत कराया जा सकता है। इसी उद्देश्य से हस्तकला को प्रोत्साहित किया जा रहा है। पार्क में आने वाले पर्यटकों को लुभाने व उन्हें स्थानीय कला व संस्कृति से अवगत कराने के उद्देश्य से महिलाओं के द्वारा हस्तकला के उत्पादों को तैयार किया जा रहा है।

आर्थिक रूप से सशक्त होंगी महिलाएं

स्थानीय संसाधनों एवं परिस्थितियों के अनुरूप महिलाओं का आर्थिक सशक्तीकरण की दिशा में सार्थक कदम है। पर्यटन के क्षेत्र में पर्यटकों की मांग के अनुसार सुविधाओं को जुटाकर उनकी आय को बढ़ाया जा सकता है। पर्यटकों को मशीनों से निर्मित उत्पाद उतना आकर्षित नहीं करते जितना हस्तकला से निर्मित वस्तुयें। वीटीआर में पर्यटन गतिविधियों के साथ रोजगार को भी बढ़ावा मिलेगा।- हेमकांत राय,सीएफ

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.