Muzaffarpur: शिक्षा-संस्कार व राजनीति में रामेश्वर सिंह के कार्य अविस्मरणीय

कालेज के संस्थापक सह स्वतंत्रता सेनानी रामेश्वर सिंह की पुण्यतिथि पर समारोह। नगालैंड व केरल के पूर्व राज्यपाल रहे निखिल कुमार ने कहा- उनकी जीवनी से लें प्रेरणा। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.हनुमान प्रसाद पांडेय ने कहा कि रामेश्वर सिंह का संपूर्ण जीवन हमसभी के लिए प्रेरणास्रोत है।

Ajit KumarWed, 16 Jun 2021 08:35 AM (IST)
शिक्षकों कर्मचारियों एवं छात्रों से अपने अपने दायित्व का निर्वहन करने के लिए संकल्पित होने को कहा।

मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। महान स्वतंत्रता सेनानी रामेश्वर बाबू ने देश व समाज के हित में सराहनीय कार्य किया। उन्होंने अपना संपूर्ण जीवन समाज की सेवा में लगाया। शिक्षा-संस्कार और राजनीति के क्षेत्र में उनके कार्य को सदैव समाज स्मरण करेगा। ये बातें मंगलवार को रामेश्वर महाविद्यालय के संस्थापक सह स्वतंत्रता सेनानी रामेश्वर ङ्क्षसह की पुण्यतिथि के मौके पर आयोजित आनलाइन समारोह में केरल और नगालैंड के पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार ने कहीं। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.हनुमान प्रसाद पांडेय ने कहा कि रामेश्वर सिंह का संपूर्ण जीवन हमसभी के लिए प्रेरणास्रोत है। पेशे से अधिवक्ता होते हुए भी सदैव समाज के लिए समर्पित रहे। 

प्रति कुलपति प्रो.रवींद्र कुमार ने कहा कि कहा कि रामेश्वर बाबू त्याग और बलिदान की प्रतिमूर्ति थे। प्राचार्य प्रो.अभय कुमार ने सभी अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने शिक्षकों कर्मचारियों एवं छात्रों से अपने अपने दायित्व का निर्वहन करने के लिए संकल्पित होने को कहा। कहा कि यदि हम लोग अपने दायित्वों का निर्वहन सही से करें तो रामेश्वर बाबू के प्रति यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने समाज में हर वर्ग के लिए शिक्षा का अलख जगाने का काम किया। उनका जीवन दर्शन हमें आदर्श जीवन जीने की प्रेरणा देता है। इससे पूर्व कॉलेज परिसर में स्थित उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। साथ ही वैदिक यज्ञ का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत में प्रो.व्यास नंदन शास्त्री ने वैदिक मंगलाचरण का पाठ किया। प्राचार्य प्रो.अभय कुमार को एनसीसी कैडेट््स ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया। कार्यक्रम को पूर्व रसायन शास्त्र विभागाध्यक्ष प्रो.हरीश चंद्र कुमार सिन्हा, डॉ.शारदा नंदन साहनी, प्रो.मीरा मिश्रा ने भी संबोधित किया। मौके पर प्रॉक्टर प्रो.अजीत कुमार, प्रो.आशा कुमारी, प्रो.बादल कुमार, डॉ.महेश्वर प्रसाद ङ्क्षसह, प्रो.महजबीन परवीन, डॉ.पूनम ङ्क्षसह, प्रो.राजबली, प्रो.राजेश कुमार, डॉ.सुमित्रा कुमारी, डॉ.उमेश शुक्ला, डॉ.साकेत कुमार ने भी श्रद्धा सुमन अर्पित किए। वीडियो फिल्म के जरिए कॉलेज के इतिहास एवं वर्तमान पर विकास की रूपरेखा प्रस्तुत की गई। धन्यवाद ज्ञापन डॉ रजनी रंजन ने किया।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.