मुजफ्फरपुर पंचायत, मुखिया चुनाव 2021: कम बायोमीट्रिक सत्यापन पर सीएससी के तीन पदाधिकारियों से स्पष्टीकरण

इस बार पंचायत चुनाव में बोगस वोटिंग रोकने के लिए मतदाताओं का बायोमीट्रिक सत्यापन कराने की प्रक्रिया शुरू की गई मगर सौ प्रतिशत सत्यापन नहीं हो सका। पारू पंचायत चुनाव में कर्मचारियों की कमी के कारण महज 53 प्रतिशत मतदाताओं का ही बायोमीट्रिक सत्यापन हो सका।

Ajit KumarMon, 06 Dec 2021 09:09 AM (IST)
पारू के पंचायत चुनाव में लापरवाही पर डीपीआरओ ने मांगा जवाब।

मुजफ्फरपुर, जासं। पारू प्रखंड के पंचायत चुनाव में महज 53 प्रतिशत मतदाताओं के बायोमीट्रक सत्यापन को लेकर सीएससी के तीन पदाधिकारियों पर कार्रवाई की तलवार लटक गई है। जिला पंचायती राज पदाधिकारी सुषमा कुमारी ने जिला प्रबंधक आशुतोष कुमार एवं आदित्य कुमार और जिला समन्यक प्रवीण कुमार से स्पष्टीकरण मांगा है। मालूम हो कि इस बार पंचायत चुनाव में बोगस वोटिंग रोकने के लिए मतदाताओं का बायोमीट्रिक सत्यापन कराने की प्रक्रिया शुरू की गई। पहले चरण के चुनाव से इसे लागू तो किया गया, मगर सौ प्रतिशत मतदाताओं का बायोमीट्रिक सत्यापन नहीं हो सका। पारू पंचायत चुनाव में कर्मचारियों की कमी के कारण महज 53 प्रतिशत मतदाताओं का ही बायोमीट्रिक सत्यापन हो सका। जारी पत्र में पंचायती राज पदाधिकारी ने कहा कि बार-बार निर्देश दिए जाने के बाद भी बूथों पर कर्मी उपलब्ध नहीं कराए गए। इतना ही जिलाधिकारी द्वारा भी बार-बार निर्देश दिए जाने पर कर्मी बूथों पर नहीं गए। यह चुनाव कार्य में शिथिलता, लापरवाही एवं अकर्मण्यता है। लापरवाही के लिए प्राथमिकी क्यों नहीं दर्ज कराई जाए इसपर स्पष्टीकरण दें।  

मुजफ्फरपुर सहित 52 रेलवे स्टेशनों को मिले आइएसओ प्रमाणन

जासं, मुजफ्फरपुर : नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के निर्देशों के अनुपालन में पूर्व मध्य रेल ने मुजफ्फरपुर सहित 52 रेलवे स्टेशनों को पर्यावरण प्रबंधन के लिए आइएसओ-14001:2015 प्रमाणन प्राप्त किया है। इको स्मार्ट स्टेशन के रूप में विकसित करने के लिए पूर्व मध्य रेल के 52 चिन्हित स्टेशनों पर रेलवे बोर्ड द्वारा सुझाए गए 24 वेरिफिएवल इंडिकेटर (पैरामीटर) लागू किए हैं। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल द्वारा निर्धारित पूर्व मध्य रेल के 52 नामांकित स्टेशनों में से 45 का संबंधित राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों के लिए सहमति-से-स्थापित (सीटीई) प्रस्तावों की आनलाइन प्रस्तुतियां सुनिश्चित की। 45 स्टेशनों के लिए स्थापना की सहमति के लिए एनओसी प्राप्त कर ली गई है और 32 स्टेशनों को कंसेंट-टू-आपरेट (सीटीओ) दी गई है। इस प्रमाणीकरण ने पूर्व मध्य रेलवे को राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों द्वारा निर्धारित पानी, वायु प्रदूषण नियंत्रण और ठोस अपशिष्ट प्रबंधन मानदंडों की आवश्यकता को सुव्यवस्थित करने में मदद की है। मुजफ्फरपुर के अलावा पटना, दानापुर, राजेन्द्रनगर टर्मिनल, सोनपुर, धनबाद, गया आदि स्टेशनों पर प्लास्टिक बोतल क्रङ्क्षशग मशीन एवं कंपोङ्क्षस्टग प्लांट की स्थापना की गई है। पूर्व मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने यह जानकारी दी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.