मुजफ्फरपुर : अगली सोमवारी के लिए बाबा गरीबनाथ मंदिर में प्रशासन ने की यह व्यवस्था

सावन के प्रत्येक रविवार को रात्रि आरती से लेकर अगले दिन सोमवार सुबह नौ बजे तक और सुबह छह से दोपहर दो बजे तक सभी सेवादल के 10-10 15-15 कार्यकर्ता मंदिर के बाहर रहेंगे। यहां आने वाले भक्तों को नियंत्रित करेंगे साथ ही अनावश्यक भीड़ नहीं लगाने की अपील करेंगे।

Ajit KumarThu, 29 Jul 2021 12:17 PM (IST)
सभी सेवादार कोरोना से बचाव को लेकर सभी नियमों का पालन करेंगे । फोटो- जागरण

मुजफ्फरपुर, जासं। बाबा गरीबनाथ नाथ सेवादल की आपात बैठक बुधवार को मंदिर प्रांगण में हुई। सावन के प्रथम सोमवार को सुबह गेट पर मची भगदड़ को देखते हुए मंदिर प्रबंधन की ओर से अगली सोमवारी पर इसे नियंत्रित करने पर विमर्श किया गया। अध्यक्षता प्रधान पुजारी पं.विनय पाठक ने की। कहा कि सावन के प्रत्येक रविवार को रात्रि आरती से लेकर अगले दिन सोमवार सुबह नौ बजे तक और सुबह छह से दोपहर दो बजे तक सभी सेवादल के 10-10, 15-15 कार्यकर्ता मंदिर के बाहर रहेंगे। यहां आने वाले भक्तों को नियंत्रित करेंगे साथ ही अनावश्यक भीड़ नहीं लगाने की अपील करेंगे। सभी सेवादार कोरोना से बचाव को लेकर सभी नियमों का पालन करेंगे वे अपना आइकार्ड भी साथ रखेंगे। बालाजी परिवार के अध्यक्ष अमरेंद्र कुमार अमर ने सभी भक्तों से अपील की है कि जल्द से जल्द वे कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन ले लें ताकि सरकार भी विचार करे कि धार्मिक स्थलों को खोला जाए। ओम सेवा दल के अध्यक्ष पारस नाथ ने जिला प्रशासन से सभी धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग की। मौके पर अभिषेक कुमार, आकाश चौधरी, रत्नेश कुमार,नीरज कुमार, आलोक कुमार, ङ्क्षप्रस कुमार, राघवेंद्र कुमार, नंद किशोर ङ्क्षसह, संजीव कुमार, मनोज ङ्क्षसह, विशाल गोस्वामी, विकाश,अभिषेक पाठक थे। 

पुलिस की रिपोर्ट पर एसडीओ ने ड्राप गेट बनाने का दिया निर्देश

जासं, मुजफ्फरपुर : कोरोना संक्रमण के कारण मंदिर में प्रवेश पर रोक के बाद भी सावन की पहली सोमवारी पर भक्तों की भीड़ उमड़ी थी। इस दौरान बैरिकेङ्क्षडग को तोड़ दिया गया था। मामले में नगर थाने की पुलिस द्वारा भेजी गई रिपोर्ट पर एसडीओ पूर्वी डा. कुंदन कुमार ने बाबा गरीबनाथ मंदिर से माखन साह चौक तक दो ड्राप गेट बनाने का निर्देश दिया है। भवन निर्माण प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता को भेजे गए पत्र में एसडीओ ने कहा कि ड्राप गेट के साथ सड़क किनारे मजबूत बैरिकेङ्क्षडग भी कराई जाए ताकि मंदिर की ओर भक्त प्रवेश नहीं कर पाएं। बता दें कि सरकार के आदेश पर कोविड के लिए निर्धारित मापदंडों के तहत मंदिरों में भक्तों के प्रवेश पर रोक है। इसके बाद भी काफी संख्या में पहली सोमवारी पर भक्त पहुंच गए थे।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.