पश्चिम चंपारण में यूपी, हरियाणा और नेपाल से लाई जाती हैं शराब की खेप

ग्रामीण क्षेत्रों में चल रहा शराब का धंधा । प्रतीकात्मक तस्वीर

West Champaran बॉर्डर से पार करा जिले में स्टॉक कर विभिन्न इलाकों में खपाते हैं। हालांकि कई बार शराब धंधेबाज पकड़े भी जाते हैं इस मामले में छोटे धंधेबाजों पर ही कार्रवाई होती है। रसूख का इस्तेमाल कर बड़े धंधेबाज कार्रवाई से बच जाते हैं।

Dharmendra Kumar SinghThu, 25 Feb 2021 05:14 PM (IST)

पश्चिम चंपारण (बेतिया), जासं ।  जिले में शराबबंदी को लेकर कड़ाई के बावजूद पड़ोसी मुल्क नेपाल, यूपी व हरियाणा से शराब की खेप आ रही है। धंधेबाज चोरी-छिपे शराब की खेप बॉर्डर से पार करा जिले में स्टॉक कर विभिन्न  इलाकों में खपाते हैं। हालांकि कई बार शराब धंधेबाज पकड़े भी जाते हैं, लेकिन लोगों का कहना हैं कि इस मामले में छोटे धंधेबाजों पर ही कार्रवाई होती है। रसूख का इस्तेमाल कर बड़े धंधेबाज कार्रवाई से बच जाते हैं। जिले में औसतन प्रतिमाह 40 लाख  के आसपास शराब का धंधा हो रहा है। इसमें देसी-विदेशी के साथ चुलाई शराब भी शामिल है। यूपी से शराब की खेप गंडक नदी के रास्ते नौतन, बैरिया एवं योगापट्टी प्रखंड होकर जिले के विभिन्न शहरों में फैल रही है, तो नेपाल से सिकटा से लेकर भिखनाठोरी बॉर्डर के समीप ग्रामीण रास्ते से धंधेबाज शराब की खेप ला रहे हैं। शराब ढ़ोने के लिए धंधेबाज ट्रेन का भी इस्तेमाल करते हैं। 

सभी प्रखंडों में किया जाता चुलाई शराब का निर्माण

चुलाई शराब का निर्माण प्राय: सभी प्रखंड के दर्जनभर गांवों में हो रहा है। पुलिस छापेमारी करती है। पांच-दस दिनों के लिए धंधा बंद रहता हैं, फिर शराब निर्माण आरंभ हो जाता है। हाल के दिनों में उत्पाद और पुलिस विभाग की टीम ने ग्रामीण क्षेत्रों में शराब के कई ठिकानों पर छापेमारी कर शराब जब्त की थी। उत्पाद विभाग एवं पुलिस की ओर से जिले में लगातार छापेमारी अभियान चलाया जा रहा है। एसडीपीओ मुकुल परिमल पांडेय ने बताया कि शराबबंदी को लेकर जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। पूर्णत: शराबबंदी को लेकर सामाजिक जागरूकता आवश्यक है। इसके साथ हीं थाना स्तर पर विशेष अभियान चलाकर शराब के धंधेबाजों एवं शराबियों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है। बेतिया उत्पाद अधीक्षक लाला अजय कुमार सुमन का कहना है कि शराब धंधेबाजों के खिलाफ लगातार कार्रवाई जारी है। हाल के दिनों में शराब के कई अड्डे को ध्वस्त किया गया है। इस धंधे में शामिल कई लोग पकड़े गए हैं। जिले में पूर्णत: शराबबंदी के लिए उत्पाद विभाग तत्पर है। 

कार्रवाई एक नजर में

1 जनवरी 2020 से 22 नवंबर 2020 तक की उत्पाद विभाग की कार्रवाई

छापेमारी -- 3735

जेल -- 147

जब्त चुलाई शराब -- 6812 लीटर

 जब्त देसी शराब -- 863 लीटर

जब्त बियर -- 30 लीटर 

जब्त विदेशी शराब -- 853 लीटर

--------------------------

जनवरी माह 2021 में पुलिस की कार्रवाई

केस -- 135

गिरफ्तारी -- 187

देसी शराब बरामदगी-- 636 लीटर

विदेशी शराब बरामदगी -- 123 लीटर

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.