स्नातक पार्ट टू का परीक्षा फॉर्म भरने से सैकड़ों छात्र हो सकते वंचित

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय की ओर से अगले माह आयोजित होने वाली स्नातक पार्ट टू की परीक्षा में शामिल होने के लिए फॉर्म भरने की अंतिम तिथि सोमवार को है। इसके बाद पोर्टल बंद हो जाएगा। इधर पोर्टल से ओटीपी यूजर आइडी और पासवर्ड नहीं आने की वजह से सैकड़ों छात्र अब तक फॉर्म नहीं भर सके हैं।

JagranPublish:Mon, 21 Dec 2020 02:26 AM (IST) Updated:Mon, 21 Dec 2020 02:26 AM (IST)
स्नातक पार्ट टू का परीक्षा फॉर्म भरने से सैकड़ों छात्र हो सकते वंचित
स्नातक पार्ट टू का परीक्षा फॉर्म भरने से सैकड़ों छात्र हो सकते वंचित

मुजफ्फरपुर। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय की ओर से अगले माह आयोजित होने वाली स्नातक पार्ट टू की परीक्षा में शामिल होने के लिए फॉर्म भरने की अंतिम तिथि सोमवार को है। इसके बाद पोर्टल बंद हो जाएगा। इधर, पोर्टल से ओटीपी, यूजर आइडी और पासवर्ड नहीं आने की वजह से सैकड़ों छात्र अब तक फॉर्म नहीं भर सके हैं। विवि की ओर से पहले ही निर्देश दिया जा चुका है कि सोमवार के बाद पोर्टल बंद कर दिया जाएगा। ऐसे में ये छात्र परीक्षा देने से वंचित हो सकते हैं। मझौलिया के चंदन कुमार ने बताया कि आरडीएस कॉलेज में पढ़ाई करते हैं। फॉर्म भरने की तिथि जारी होने के बाद कई बार प्रयास किया, लेकिन रजिस्ट्रेशन के लिए यूजर आइडी नहीं बन पा रहा। दामुचौक की प्रिया झा, माड़ीपुर की सौम्या और ब्रह्मापुरा के अशफाक ने भी ऐसी शिकायत की। विद्यार्थियों ने कहा कि एक सप्ताह पूर्व परीक्षा नियंत्रक से मिलकर इसकी शिकायत की थी। उन्होंने समस्या देखकर फॉर्म भरने की तिथि आगे बढ़ाई, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक डॉ.मनोज कुमार ने बताया कि सोमवार के बाद फॉर्म भरने की तिथि नहीं बढ़ाई जाएगी। यदि अधिक संख्या में छात्र परीक्षा फॉर्म नहीं भर सके हैं तो वे अपनी समस्या का जिक्र करते हुए कॉलेज में आवेदन दें। कॉलेज ऐसे छात्रों के आवेदन को एकत्रित कर परीक्षा विभाग को भेजे तो इनका फॉर्म भरवा दिया जाएगा। छात्रों को सीधे विवि नहीं आना है।

प्रमोट होने वाले छात्र अलग विकल्प का करें चयन :

विवि के तकनीकी विशेषज्ञों ने बताया कि कई छात्र प्रमोटेड हैं और वे रेगुलर छात्र के विकल्प को चुन रहे हैं। इस कारण उनका ओटीपी नहीं आ रहा है। कई छात्रों ने प्रथम वर्ष में प्रतिष्ठा और वैकल्पिक दोनों में एक ही विषय दे दिया था। पिछले वर्ष तक यह व्यवस्था ऑफलाइन मोड में थी। इस कारण कॉलेज ने सत्यापित कर भेजा और विवि की ओर से भी उनका एडमिट कार्ड जारी कर दिया गया। परीक्षा भी हुई और परिणाम भी आ गया। लेकिन, इस वर्ष जैसे ही छात्र प्रतिष्ठा के विषय का चयन करते हैं तो उनके वैकल्पिक पेपर से उसका विकल्प हट जाता है। इस कारण वे परेशान होकर विवि पहुंचे थे। परीक्षा नियंत्रक ने कहा कि वे बदले हुए विषय से परीक्षा दें। साथ ही प्रथम वर्ष में भी विषय बदलने और उस पेपर की परीक्षा देने के लिए फॉर्म भरें ताकि उनका रिजल्ट सही हो पाए।