एक अक्टूबर से स्नातक पार्ट वन की परीक्षा, पश्चिम चंपारण में तैयारी शुरू

West Champan पहली बार परीक्षा में पूछे जाएंगे बहुविकल्पीय आधारित प्रश्नतीन पालियों में कराई जाएगी परीक्षा कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर थमने के पांच माह बाद विवि की ओर से परीक्षाओं को लेकर जारी किया गया है कार्यक्रम।

Dharmendra Kumar SinghSun, 19 Sep 2021 04:07 PM (IST)
परीक्षा और पंचायत चुनाव साथ होने से बढ़ी़ परेशानी। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

पश्चिम चंपारण (बेतिया), जासं। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय की ओर से स्नातक प्रथम खण्ड सत्र 2019-21 की लंबित परीक्षाओं का कार्यक्रम जारी कर दिया गया है। परीक्षाएं 1 अक्टूबर से शुरू होकर 12 नवंबर तक चलेंगी। जबकि सब्सिडियरी कोर्स की परीक्षा 27 अक्टूबर से 12 नवंबर तक होगी। परीक्षाएं तीन पाली में कराई जाएगी। पहली पाली की परीक्षा समय सुबह 9 से 11 बजे, दूसरी पाली दोपहर 12 से 2 बजे व तीसरी पाली की परीक्षा 3 से 5 बजे तक होगी।

कोरोना की दूसरी लहर थमने के करीब पांच महीने बाद विवि की ओर से परीक्षाओं को लेकर कार्यक्रम जारी किया गया है। सत्र काफी विलंब हो चुका है उसे ट्रैक पर लाने के लिए परीक्षा पैटर्न में परिवर्तन किया गया है। परीक्षा में बहुविकल्पीय आधारित प्रश्न पूछें जाएंगे। ओएमआर शीट पर परीक्षार्थियों को परीक्षा देनी होगी। जारी कार्यक्रम में विभिन्न विषयों को 12 ग्रुपों में बांटा गया है।

ग्रुप ए में इतिहास व ग्रुप बी में कॉमर्स उर्दू तथा फिलॉसफी को रखा गया है। ग्रुप सी में ङ्क्षहदी , जूलॉजी, ग्रुप डी में रसायन शास्त्र, भूगोल व ग्रुप ई में संस्कृत, म्यूजिक और अर्थशास्त्र को शामिल किया गया है। ग्रुप एफ में सोशियोलॉजी, एआईएच एंड सी, ग्रुप जी मैं इलेक्ट्रॉनिक्स, गणित, ग्रुप एच में पर्शियन, भौतिकी, भोजपुरी, बंगाली एंड एलएसडब्ल्यू को रखा गया है। ग्रुप आई में अंग्रेजी, मैथिली,बॉटनी, ग्रुप जे में गृह विज्ञान,पीके एंड जे व ग्रुप के में मनोविज्ञान तथा ग्रुप एल में राजनीति शास्त्र को शामिल किया गया है।

चुनाव को लेकर पशोपेश में प्रशासन

परीक्षा का कार्यक्रम जारी होते ही नगर का कॉलेज प्रशासन सकते में आ गया है। कॉलेज प्रशासन का कहना है कि एक और पंचायत के चुनाव में कॉलेज के प्राध्यापक व कर्मी लगे हुए हैं दूसरी तरफ परीक्षा का रूटीन विवि द्वारा जारी कर दिया गया है। ऐसे में दोनों के बीच सामंजस्य बैठाना काफी कठिन हो रहा है। एमजेके कॉलेज के प्राचार्य डॉ सुरेंद्र प्रसाद केसरी ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा चुनाव के प्रशिक्षण एवं कार्य से कॉलेज के परीक्षा नियंत्रक से लेकर कर्मियों को छुट्टी नहीं दी जा रही है। ऐसे में परीक्षा का संचालन कैंसे होगा। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय से रूटिन के बारे में उन्होंने जिला प्रशासन को अवगत कराया है। वहीं जिला प्रशासन के निर्देशों को विश्वविद्यालय के पदाधिकारियों को अवगत कराया है। ऐसे में परीक्षा के संचालन को लेकर पशोपेश की स्थिति बन गई है। उनका कहना कि परीक्षा में वीक्षक की भूमिका निभाने वाले शिक्षक भी चुनाव के कार्य में लगे होंगे। ऐसे में परीक्षा कराना काफी मुश्किल हो गया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.