BRA Bihar University : स्नातक की पहली मेधा सूची जारी, एक से 15 नवंबर तक होगा नामांकन

पहली मेधा सूची में 89 हजार छात्र-छात्राओं का नाम आया है।
Publish Date:Fri, 30 Oct 2020 01:10 AM (IST) Author:

मुजफ्फरपुर, जेएनएन। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के अंगीभूत और संबद्ध कॉलेजों में स्नातक में नामांकन के लिए गुरुवार की शाम मेधा सूची जारी कर दी गई। इसे विवि के वेबसाइट के साथ ही सभी चयनित छात्रों के ई-मेल पर भी भेजी गई है। कॉलेजों में एक से 15 नवंबर तक पहली मेधा सूची के आधार पर नामांकन होगा। इसके बाद इस सूची में जिन छात्र-छात्राओं का नाम नहीं आया है वे अपने ही संकाय के दूसरे विषयों का चयन कर सकेंगे। इसकी सूची पहले चरण के नामांकन के बाद जारी की जाएगी। यूएमआइएस को-ऑर्डिनेटर प्रो.ललन कुमार झा ने बताया कि कुलपति की अनुमति मिलने के बाद इसे जारी किया गया है। नए कॉलेजों में आधी से अधिक सीटें खाली 

 विवि के 36 नए कॉलेजों को संबद्धता मिली है, लेकिन तबतक आवेदन की प्रक्रिया लगभग समाप्त हो गई थी। इससे इन कॉलेजों को विद्यार्थियों ने विकल्प के रूप में चुना ही नहीं। लगभग सभी नए संबद्धता वाले कॉलेजों में आधी से अधिक सीटे खाली रह गई हैं। वहीं अंगीभूत कॉलेजों में अधिकतर विषयों में सीट के अनुसार या इससे अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं। विवि के क्षेत्राधिकार वाले पांचों जिलों के सभी प्रमुख कॉलेजों में गणित का कटऑफ करीब 80, कॉमर्स का 75, भौतिकी व जुलॉजी का 70 से अधिक और इतिहास का 65 से अधिक गया है। कॉलेजों को दिया आइडी व पासवर्ड : सभी कॉलेजों के प्राचार्य को नामांकन के संबंध में दो दिनों तक ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया गया है। उन्हें आइडी व पासवर्ड भी उपलब्ध कराया गया है। छात्र-छात्राएं कॉलेजों में जाकर अपने मूल प्रमाणपत्र की जांच कराएंगी। इसके बाद नामांकन के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन भुगतान करेंगे। इसके लिए कॉलेजों को ऑनलाइन या ऑफलाइन भुगतान प्राप्त करने की छूट दी गई है। ऑफलाइन मोड में चालान, कैश, डीडी और चेक से भुगतान हो सकेगा। प्राचार्यो से कहा गया है कि यदि उनका स्टेट बैंक में खाता है तो वे विवि के यूएमआइएस कार्यालय से संपर्क कर उसे टैग करवा सकते हैं। इसके बाद उस खाता में भी ऑनलाइन भुगतान हो सकेगा। 89 हजार सीटों के लिए जारी हुई मेधा सूची : स्नातक में नामांकन के लिए पूर्व से 1.07 लाख सीट निर्धारित हैं।

89 हजार छात्र-छात्राओं का नाम आया

पहली मेधा सूची में 89 हजार छात्र-छात्राओं का नाम आया है। वहीं, स्नातक में करीब डेढ़ लाख आवेदन आए थे। इसमें सात हजार आवेदन गलत जानकारी अपलोड करने से रद कर दिए गए थे। शेष 11 हजार सीटों के लिए पहली मेधा सूची के बाद विषयों को एडिट करने का विकल्प दिया जाएगा। वहीं 36 नए कॉलेजों को संबद्धता मिलने और अन्य कॉलेजों में भी सीट बढ़ाने को लेकर सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है। विवि की ओर से सीटों की संख्या 1.52 लाख करने का प्रस्ताव भेजा गया है। हालांकि इसे अभी मंजूरी नहीं मिली है। विवि के अधिकारियों ने बताया कि यदि पहली मेधा सूची के आधार पर नामांकन के बाद प्रस्ताव स्वीकृत होता है तो दूसरी मेधा सूची में बढ़ी सीटो को शामिल कर लिया जाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.