Muzaffarpur News : बिना रेगुलेशन पास कराए ही डिस्टेंस में नामांकन, 10 वर्ष बाद भी अधर में सूबे के 40 हजार विद्यार्थियों का भविष्य

Muzaffarpur News विद्यार्थियों का आरोप - पूर्व के पदाधिकारियों ने बरगलाया आरटीआइ से मिली रेगुलेशन पास नहीं होने की जानकारी विवि स्तर पर स्वीकृत है रेगुलेशन परीक्षाओं के आयोजन के लिए बनेगी एडवाइजरी कमेटी ।

Dharmendra Kumar SinghMon, 29 Nov 2021 06:19 AM (IST)
25 वर्ष से अधिक से बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में चल रहा है दूरस्थ शिक्षा निदेशालय।

मुजफ्फरपुर, जासं। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में 25 वर्ष से अधिक से दूरस्थ शिक्षा निदेशालय चल रहा है। पिछले 10 वर्षों से यहां न समय से परीक्षाएं हुईं और न परिणाम आया। कुछ परीक्षाएं हुईं भी तो सफल विद्यार्थियों को प्रमाणपत्र नहीं मिला। बताया गया कि पीजी की सत्र 2011-13, 2012-14, 2013-15 की परीक्षा हुई पर प्रमाणपत्र अबतक नहीं दिया गया। वहीं स्नातक सत्र 2013-16, 2014-17 और 2015-18 के विद्यार्थी नामांकन के आठ वर्ष बाद भी परीक्षा के लिए बाट जोह रहे हैं।

विद्यार्थियों ने आरोप लगाया कि इन कोर्सों का रेगुलेशन पास नहीं था। यहां के अधिकारियों ने यह जानते हुए भी नामांकन ले लिया। पूछे जाने पर भी विद्यार्थियों को सही जानकारी नहीं दी गई। जब आरटीआइ से छात्रों ने यूजीसी से इसकी जानकारी मांगी तो उसके पत्र से यह मामला स्पष्ट हुआ। विद्यार्थियों ने पूर्व के अधिकारियों पर परिणाम जारी करने के बदले पैसे की मांग करने का भी आरोप लगाया। इसी प्रकार बीएड के तीन सत्र के विद्यार्थी भी रेगुलेशन पास नहीं होने के कारण नामांकन लेकर फंस गए। इसमें से अधिकतर अभ्यर्थी सरकारी शिक्षक थे। जब उनकी परीक्षा नहीं हुई तो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। काफी समय तक मामला हाईकोर्ट में रहने के बाद अभ्यर्थियों के पक्ष में निर्णय आया।

कोर्ट की ओर से बीएड अभ्यर्थियों की परीक्षा कराने और प्रमाणपत्र जारी करने का निर्देश दिया। इसके बाद एमफिल समेत अन्य कोर्स के करीब 40 हजार विद्यार्थी अब भी परिणाम और प्रमाणपत्र के लिए इंतजार कर रहे हैं। पूरे प्रदेश के विद्यार्थियों ने दूरस्थ शिक्षा निदेशालय में दाखिला लिया था। रेगुलेशन पास नहीं होने के कारण 2016 से यहां नया नामांकन नहीं लिया जा रहा है।

नैक से ग्रेड ए और एनआरएफ रैंङ्क्षकग 100 होने पर ही दूरस्थ शिक्षा का हो सकता संचालन 

विवि के दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के नए निदेशक डा.ओपी राय ने बताया कि दूरस्थ शिक्षा निदेशालय के संचालन के लिए नए दिशानिर्देश दिए गए हैं। इसमें कहा गया है कि विवि को नैक से ग्रेड ए होना चाहिए। साथ ही एनआरएफ से 100 के भीतर रैंङ्क्षकग होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि विवि स्तर पर डिस्टेंस का रेगुलेशन पास है। इस आधार पर जो परीक्षाएं हो सकती हैं। इसके लिए कुलपति से मार्गदर्शन लिया जाएगा। वहीं राजभवन से भी रेगुलेशन पास करने के लिए अनुरोध किया जाएगा।

दूरस्थ शिक्षा निदेशालय की परीक्षाओं का हाल :

- 2013-16, 2014-17 और 2015-18 में स्नातक के विभिन्न विषयों की परीक्षा नहीं हुई।

- 2014-15, 2015-16 में एमफिल में नामांकित विद्यार्थियों की परीक्षा अबतक लंबित।

- 2011-13, 2012-14, 2013-15 की पीजी की परीक्षा हुई पर प्रमाणपत्र अबतक नहीं मिले।

- 2012-15 स्नातक की परीक्षा हुई पर विद्यार्थियों को अबतक नहीं मिला प्रमाणपत्र।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.