एफसीआइ के गोदाम पर डीएम ने मारा छापा, प्रबंधक व गोदाम प्रबंधक को नोटिस, सीतामढ़ी का मामला

औचक निरीक्षण के बाद सीतामढ़ी डीएम ने जिला प्रबंधक राज्य खाद्य निगम और सहायक गोदाम प्रबंधक से किया जवाब-तलब। वहीं वहां रखे चावल व गेहूं आदि अनाज की गुणवत्ता का भी किया अवलोकन। चावल एवं गेहूं के बोरों को तौलवाकर भी देखा।

Dharmendra Kumar SinghFri, 17 Sep 2021 02:18 PM (IST)
ट्रक पर लोड खाद्यान्न की जांच करते डीएम। जागरण

सीतामढ़ी, जासं। जिला पदाधिकारी सुनील कुमार यादव ने डुमरा प्रखंड कार्यालय परिसर स्थित बिहार राज्य खाद्य निगम गोदाम का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के क्रम में भंडारित खाद्यान्न को अव्यवस्थित तरीके से रखा होने के कारण डीएम ने गहरी नाराजगी जताई। साथ ही साफ-सफाई को लेकर भी अप्रसन्नता जताई। जिलाधिकारी ने इसको लेकर जिला प्रबंधक राज्य खाद्य निगम एवं सहायक गोदाम प्रबंधक से जवाब-तलब किया है। वहां रखे चावल, गेहूं आदि अनाज की गुणवत्ता का भी अवलोकन किया। चावल एवं गेहूं के बोरों को तौलवाकर भी देखा। स्टॉक पंजी, सेल पंजी सहित विभिन्न पंजियों की भी जांच की।

उक्त निरीक्षण में निदेशक डीआरडीए मुमुक्षु कुमार चौधरी, ओएसडी प्रशांत कुमार उपस्थित थे। बताया गया है कि डीएम को इस गोदाम पर गड़बड़की की गुप्त सूचना मिली थी। सूचना मिलते ही वे तुरंत छापेमारी के लिए निकल गए। तब डीएम कलेक्ट्रेट में एक महत्वपूर्ण बैठक में शिरकत कर रहे थे। अचानक उनके मोबाइल पर किसी स्रोत से यह सूचना मिली।.समाहरणालय स्थित परिचर्चा भवन में जिला बाल संरक्षण समिति एवं चाइल्ड लाइन एडवाइजरी कमिटी की बैठक हो रही थी। बैठक को बीच में ही छोड़कर निकल गए।

बाल संरक्षण के लिए जागरूकता व बेहतर को-आर्डिनेशन जरूरी: डीएम

सीतामढ़ी। जिला बाल संरक्षण समिति एवं चाइल्ड लाइन एडवाइजरी कमिटी की जिला में बैठक हुई। समाहरणालय स्थित परिचर्चा भवन में आहूत इस बैठक में डीएम-एसपी समेत उन सभी विभागों के पदाधिकारी भी शरीक हुए जिनके कंधे पर बाल संरक्षण की महती जवाबदेही है। इनमें डीटीओ रव‍िंद्र नाथ गुप्ता, सिविल सर्जन, डीपीआरओ परिमल कुमार, सहायक निदेशक बाल संरक्षण इकाई सोनी कुमारी, एसएसबी 51वी बटालियन के कमांडेंट राजन श्रीवास्तव, दयानंद झा, अश्वनी चौबे, जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड की सदस्य अलका रानी, नागेंद्र ङ्क्षसह, बाल कल्याण समिति के सदस्य सुबोध राउत सहित सभी बीडीओ,सीडीपीओ आदि शामिल थे। जिलाधिकारी सुनील कुमार यादव ने कहा कि ब'चों के मामलों में पूरी संवेदनशीलता के साथ अफसर कार्य करें। कोविड महामारी में अपने माता-पिता को खोने वाले ब'चों को चिह्नित कर सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का त्वरित लाभ दिलाने का उन्होंने निर्देश दिए।

बीडीओ को भी निर्देशित किया कि ऐसे ब'चों को चिह्नित करने में पूरी सक्रियता के साथ सहयोग करें। सिविल सर्जन को निर्देश दिया कि जिले में ब'चों की देखरेख करने वाली संस्थाओं में सप्ताह में तीन दिन नियमित रूप से डॉक्टर विजिट करें। चाइल्ड लाइन के टॉल फ्री नंबर 1098 का व्यापक प्रचार-प्रसार करने का भी निर्देश दिया। इस नंबर पर ब'चों से संबधित किसी भी प्रकार की सूचना दी जा सकती है। पुलिस अधीक्षक हर किशोर राय ने कहा कि सभी थानों में नामित बाल कल्याण पदाधिकारी के नाम एवं मोबाइल नंबर का डिस्प्ले बोर्ड लगाया जाएगा।

विधि विवादित किशोरों का सामाजिक पृष्ठभूमि प्रतिवेदन, केस डायरी एवं अंतिम प्रपत्र किशोर न्याय बोर्ड सीतामढ़ी को ससमय उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया गया है। बेसहारा भूले-भटके ब'चों के पुनर्वास में पुलिस अपना पूर्ण सहयोग प्रदान करेगी। बाल विवाह के मामले में बाल विवाह निषेध अधिनियम को पूरी ²ढ़ता के साथ अनुपालन करवाया जाएगा। जिलाधिकारी ने कोविड-19 महामारी के परिप्रेक्ष्य में बिहार सरकार द्वारा संचालित बाल सहायता योजना एवं परवरिश तथा भारत सरकार द्वारा संचालित पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार करने का भी निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि कानूनी रूप से ब'चों का दत्तक ग्रहण करने को लेकर भी व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित करें। द्वितीय कमान अधिकारी एसएसबी ने कहा कि सभी संबधित एनजीओ बेहतर समन्वय के साथ कार्य करें। त्वरित रूप से सूचनाओं का आदान-प्रदान अत्यंत जरूरी है। ऐसे संवेदनशील मामलों पर सशस्त्र सीमा बल पूरी मुस्तैदी के साथ कार्य कर रहा है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.