Darbhanga News: जिला स्तर पर होगा नव चयनित श‍िक्षकों के प्रमाण पत्रों का सत्यापन

ब‍िहार में इस बार जाति तथा आवासीय प्रमाण पत्रों की भी होगी जांच गलत प्रमाण पत्र देने वालों के खिलाफ होगी प्राथमिकी शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव के निर्देश पर जिला शिक्षा पदाधिकारी ने शुरू की कवायद बनाए जा रहे कोषांग

Dharmendra Kumar SinghFri, 24 Sep 2021 04:20 PM (IST)
कागजातों की जांच के लिए अलग कोषांग बनाया जा रहा । प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

दरभंगा, जासं। जिला शिक्षा पदाधिकारी विभा कुमारी ने कहा है कि प्रारंभिक विद्यालयों में शिक्षक पद के लिए चयनित अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्रों की जांच जिला स्तर पर कराई जाएगी। शैक्षणिक एवं प्रशैक्षणिक , टीईटी के मूल प्रमाण पत्र सहित अन्य कागजातों की जांच के लिए अलग कोषांग बनाया जा रहा है। शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार के निर्देश के आलोक में जिले से ही विभिन्न बोर्ड और विश्वविद्यालयों को सत्यापन के लिए प्रमाण पत्र भेजा जाएगा। इस बार अभ्यर्थियों के स्वहस्ताक्षरित आवासीय, जाति एवं आय प्रमाण पत्रों की भी जांच होगी। जिन अभ्यर्थियों के प्रमाण पत्र ग़लत पाए जाएंगे उनके खिलाफ संबंधित थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि जिले के प्रारंभिक विद्यालयों में 2019-20 के तहत शिक्षक नियोजन के लिए काउंसलिंग संपन्न हो चुकी है।

चयनित अभ्यर्थियों की सूची एनआईसी की वेबसाईट पर अपलोड करा दी गई है। चयनित अभ्यर्थियों के समर्पित स्वहस्ताक्षरित प्रमाण पत्र जिला शिक्षा कार्यालय में सुरक्षित हैं। इनमे से अधिकांश का सत्यापन बिहार विद्यालय परीक्षा समिति से कराया जाना है । इसके लिए निर्देश के आलोक में एक कोषांग का गठन कर एक जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को नामित करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है । विश्वविद्यालयों से प्रमाण पत्रों के सत्यापन के लिए अलग अलग प्रमाण पत्रों को संकलित करते हुए विशेष दूत के माध्यम से सत्यापन कराने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है ।

राज्य के बाहर विश्वविद्यालयों के प्रमाण पत्र के सत्यापन के लिए विशेष दूत भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक , प्रशैक्षणिक प्रमाण पत्रों के अलावा नियुक्ति के लिए समर्पित जाति , आवासीय और आय प्रमाण पत्र आदि का सत्यापन कराने की व्यवस्था भी की जा रही है। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व चयनित अभ्यर्थियों के द्वारा समर्पित प्रमाण पत्रों के अंकों का मिलान संबंधित नियोजन इकाई के कार्यालय से उपलब्ध कराई गई अंतिम मेधा सूची में अंकित प्रविष्टियों से कराई जाएगी। अगर मेधा सूची के निर्माण में ग़लत प्रविष्टि पाई जाएगी तो संबंधित नियोजन इकाई के खिलाफ तत्काल अनुशासनिक कार्रवाई के लिए सक्षम प्राधिकार से अनुशंसा की जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.