महिला SSP पर व्‍यक्तिगत टिप्‍पणी कर बुरे फंसे पप्‍पू यादव, मुकदमा दाखिल

पटना [जेएनएन]। जन अधिकार पार्टी के सुप्रीमो व सांसद पप्‍पू यादव नई मुसीबत में हैं। मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर के खिलाफ अभद्र व्‍यक्तिगत टिप्‍पणी का आरोप लगाते हुए अजय पांडेय नामक किसी व्‍यक्ति ने मुजफ्फरपुर कोर्ट में उनपर मुकदमा दाखिल किया है।

पप्‍पू यादव ने कहा था कि सवर्णों के भारत बंद के दिन मुजफ्फरपुर में उनकी हत्‍या तय थी और उस साजिश में मुजफ्फरपुर की एसएसपी भी शामिल थीं। घटना के बाद अपनी गाड़ी में उनके रोने का वीडियो भी वायरल हो गया था। बाद में उन्‍होंने यह भी कहा था कि एसएसपी ने घटना की रात पत्रकारों को 'लव लेटर' देकर हमले की बात को झूठ बताया था।

घटनाक्रम व पप्‍पू यादव के आरोप

विदित हो कि सवर्णों के भारत बंद के दिन पप्पू यादव मुजफ्फरपुर में पार्टी के एक कार्यक्रम में शामिल होकर लौट रहे थे कि बंद समर्थकों ने उन्हें एनएच-28 पर कथित तौर पर घेर लिया तथा हत्‍या की कोशिश की। पप्‍पू यादव के अनुसार वहां जाति पूछकर उनकी पिटाई की गई। लेकिन, बाद में घटनास्थल का एक क‍थित वीडियो सामने आया, जिससे पता चला कि बंद समर्थकों ने पप्पू यादव की बात सुनी और उन्हें आगे बढ़ने का रास्ता दिया।

घटना के बाद पप्‍पू यादव ने मुजफ्फरपुर की एसएसपी हरप्रीत कौर के संबंध में आपत्तिजनक बयान देते हुए कहा कि उन्होंने घटना की रात पत्रकारों को 'लव लेटर' देकर हमले की बात को झूठ बताया। पप्पू यादव ने कहा कि अगर वे मुजफ्फरपुर में नियंत्रण खो देते तो उनकी हत्या तय थी। उनपर हमला किया गया। इसके गवाह उनकी सुरक्षा में तैनात सरकारी सुरक्षाबल के जवान हैं।

उन्‍होंने सवाल किया कि अगर उनपर हमला नहीं हुआ था तो एसएसपी ने हमले के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार क्‍यों किया? पप्‍पू यादव ने कहा कि मुजफ्फरपुर में उन्‍हें सुरक्षा नहीं दी गई तथा एसएसपी ने कॉल करने पर बात भी नहीं की।

आरोपों पर एसएसपी ने दिए ये जवाब

पप्पू यादव के आरोपों पर एसएसपी हरप्रीत कौर ने कहा कि वे गलत बोल रहे हैं। पप्‍पू यादव का कायर्क्रम मधुबनी में था, न कि मुजफ्फरपुर में। उन्‍होंने मुजफ्फरपुर आने की सूचना भी पुलिस को नहीं दी थी। ऐसे में उन्‍हें मुजफ्फरपुर पुलिस पूरी सुरक्षा कैसे देती?

एसएसपी के अनुसार, जहां तक कॉल पर बात नहीं करने का आरोप है, उन्‍होंने जिस नंबर से कॉल किया था वो सेव नहीं था। एसएसपी ने कहा, बाद में मैंने खुद कॉल कर पूरी जानकारी ली थी। एसएसपी ने बताया कि पपपू यादव से घटना में हुई क्षति का प्रदर्श देने को कहा गया, लेकिन उन्‍होंने न तो प्रदर्श दिया, न ही एफआइआर दर्ज की।

एसएसपी ने कहा कि पप्‍पू यादव पर्सनल व आपत्तिजनक टिप्‍पणी भी कर रहे हैं। नारी बचाओ आंदोलन करने वाले राजनेता का एक महिला अधिकारी के प्रति ऐसा व्‍यवहार आपत्तिजनक है। इसके खिलाफ वे कोर्ट जा सकती हैं। एसएसपी हरप्रीत कौर तो कोर्ट नहीं गईं, लेकिन पप्‍पू यादव के खिलाफ अजय पांडेय ने मुकदमा जरूर कर दिया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.