Cowin Covid 19 Vaccine registration: 10 डोज में आई कोवैक्सीन, मुजफ्फरपुर के शहरी इलाके मेें होगा वितरण

जिले में प्रतिदिन पांच से 10 हजार लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य है। फाइल फोटो

Cowin Covid 19 Vaccine registration अभी तक केवल एसकेएमसीएच में ही उपलब्ध थी कोवैक्सीन। राज्य मुख्यालय से भेजी गई आठ हजार डोज वैक्सीन। कोविड शील्ड के साथ 10 डोज में कोवैक्सीन आने से जिले में टीकाकरण का दायरा बढ़ाने मेें मदद मिलेगी।

Ajit KumarFri, 07 May 2021 11:02 AM (IST)

मुजफ्फरपुर, जासं। Cowin Covid 19 Vaccine registration: अब एसकेएमसीएच के अलावा शहरी इलाके के दूसरे टीकाकरण सेंटरों पर भी कोवैक्सीन की डोज दी जाएगी। कोविड शील्ड के साथ 10 डोज में कोवैक्सीन आने से जिले में टीकाकरण का दायरा बढ़ाने मेें मदद मिलेगी। गुरुवार को जिले मेंं आठ हजार डोज आई है। वैक्सीन की जितनी मात्रा चाहिए उतनी जिले को नहीं मिली। जानकारी के अनुसार जिले में प्रतिदिन पांच से 10 हजार लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य है। शुक्रवार को राज्य मुख्यालय से वैक्सीन नहीं आई तो शनिवार को संकट हो सकता है। सभी जगहों पर टीकाकरण नहीं हो सकेगा। 

टीकाकरण का बढ़ रहा दायरा

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ.एसके चौधरी ने बताया कि राज्य मुख्यालय से प्रतिदिन वैक्सीन आ रही है। इसलिए कोई संकट नहीं होगा। शहरी इलाके में टीकाकरण सत्र बढ़ाया गया, लेकिन जितनी वैक्सीन चाहिए नहीं मिल पा रही है। उन्होंने कहा कि पहली बार जिले में 10 डोज वाली कोवैक्सीन आई है। इसे अब एसकेएमसीएच के साथ सदर अस्पताल, शहरी पीएचसी व अन्य टीकाकरण केंद्रों पर उपलब्ध कराया जाएगा। जिलाधिकारी व सिविल सर्जन के साथ साझा रणनीति बनाकर कोवैक्सीन का वितरण होगा। आम आदमी से अपनी बारी आने पर टीका अवश्य लेने की अपील की। कोविड शील्ड भी उपलब्ध रहेगी। पहली खुराक लेने वालों को दोनों तरह की वैक्सीन दी जाएगी। जो लोग दूसरी डोज लेंगे उनको जो पहले वैक्सीन दी गई है वही दी जाएगी।  

केंद्रीय कारा में टीकाकरण बंद

मुजफ्फरपुर : कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर जेल के बंदियों में जारी टीकाकरण बंद हो गया है। इसके पीछे रजिस्ट्रेशन के बाद सत्यापन के लिए आधार कार्ड की आवश्यकता व ओटीपी की अनिवार्यता को वजह बताया जा रहा है। 3200 बंदियों में से अबतक 550 को ही टीका लगा है। डेढ़ हजार से अधिक बंदियों का आधार कार्ड जेल प्रशासन के पास जमा है। मोबाइल नंबर सही नहीं होने से टीकाकरण बंद है। इस बाबत जेल अधीक्षक राजीव कुमार ङ्क्षसह ने डीएम से पत्राचार किया है। कहा है कि ओटीपी के सत्यापन में विलंब हो रहा है। इसकी अगर कोई वैकल्पिक व्यवस्था हो तो बंदियों को टीका लग सकेगा। आजीवन कारावास समेत अन्य मामलों में बंद करीब एक सौ बंदियों के पास आधार कार्ड व मोबाइल नंबर भी नहीं है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.