BPSC 64th Exam Final Result: मुजफ्फरपुर के गौतम को बीपीएससी में 304वीं रैंक, बने रेवेन्यू पदाधिकारी

BPSC 64th Exam Final Result मुंबई में बैंक में पीओ के पद पर नियुक्त हैं गौतम। दूसरे प्रयास में प्राप्त की सफलता। उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई जेपीएस स्कूल से की। वहीं वीआइटी वेलोर से इंजीनियरिंग में स्नातक की।

Ajit KumarMon, 07 Jun 2021 08:44 AM (IST)
गौतम ने उन छात्रों को प्रेरणा दिया है जो वर्तमान में तैयारी में जुटे हैं। फाइल फोटो

मुजफ्फरपुर, जासं। मझौली खेतल निवासी नागेंद्र प्रसाद सिंह और उषा सिंह के पुत्र गौतम कुमार ने दूसरे प्रयास में बीपीएससी में 304 वां स्थान प्राप्त किया है। वे इस समय मुंबई स्थित बैंक ऑफ इंडिया में पीओ के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई जेपीएस स्कूल से की। वहीं वीआइटी वेलोर से इंजीनियरिंग में स्नातक की। गौतम की तीन बड़ी बहनें हैं। उनके पिता व्यवसायी और मां गृहिणी हैं। गौतम ने बताया कि पिछली परीक्षा में उत्तर लिखने में त्रुटियां हुईं। उससे सीख लेते हुए उन्होंने तैयारी की और इसबार उन्हें सफलता मिल गई। बैंक में दिनभर कार्य करने के बाद देर शाम थकान के बाद स्वाध्याय के बल पर बीपीएससी में सफलता प्राप्त कर गौतम ने उन छात्रों को प्रेरणा दिया है जो वर्तमान में तैयारी में जुटे हैं।

गौतम रेवेन्यु विभाग में अधिकारी बनेंगे। 2018 में गौतम यूपीएससी में इंटरव्यू तक का सफर पूरा किया पर वहां सफल नहीं होने पर बीपीएससी की तैयारी में जुट गए। इसके बाद पिछली बार इंटरव्यू तक पहुंचे। सफलता नहीं मिली तो इससे जरा भी डिगे नहीं और फिर से तैयारी में जुट गए। गौतम के इसी संकल्प ने आज उन्हें सफलता दिली दी। गौतम ने तैयारी करने वाले छात्रों के लिए सुझाव दिया कि उन्हें सबसे पहले सिलेबस की पूरी जानकारी होनी चाहिए। जिस किताब को भी पढ़ें उसे समझने का प्रयास करें। रिवीजन भी करते रहें व नोट््स बनाएं। निरंतर तैयारी करें। दृढ़ निश्चय हो तो अवश्य सफल होंगे। 

सपना सिन्हा को मेडिकल में शोध के लिए यूएसए में मिला फेलोशिप अवार्ड

जासं, मुजफ्फरपुर : बीआरए बिहार विवि के भौतिकी विभाग की प्राध्यापक डॉ.संगीता सिन्हा की पुत्री सपना सिन्हा को मेडिकल के क्षेत्र में शोध के लिए यूएसए में फेलोशिप अवार्ड से नवाजा गया है। सपना एक ऐसा डिवाइस तैयार करेंगी जो नर्वस सिस्टम की सर्जरी के दौरान अन्य भागों को खराब होने या टूटने से बचाएगा। सपना को प्रतिवर्ष इस काम के लिए एक लाख डॉलर का फेलोशिप मिलेगा। डॉ.संगीता ने बताया कि उनकी पुत्री सपना सिन्हा ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी किया है। जापान में ओसाका यूनिवर्सिटी में सपना असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर हैं। सपना को एमआइटी व हावर्ड यूनिवर्सिटी में रिसर्च करने वालों के साथ काम करने का मौका मिलेगा। पीएचडी के बाद ये फेलोशिप दुनिया का बेहतर फेलोशिप माना जाता है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.