Weather Update: उत्तर बिहार की नदियां उफनाईं, शिवहर का पूर्वी चंपारण व सीतामढ़ी से सड़क संपर्क भंग

एनएच 104 स्थित धनकौल बाधं के निकट डायवर्सन का दृश्य
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 08:47 PM (IST) Author: Murari Kumar

मुजफ्फरपुर, जेएनएन। उत्तर बिहार में बीते कई दिनों से रुक-रुककर हो रही बारिश से नदियां उफना गई हैं। कई गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। शिवहर में बागमती के जलस्तर में वृद्धि हुई है। शिवहर-मोतिहारी स्टेट हाईवे पर पानी बहने से आवागमन बंद हो गया है। शिवहर-सीतामढ़ी हाईवे पर कोला पुल के पास निर्माणाधीन सड़क बह गई है। इससे आवागमन ठप है। पिपराही प्रखंड अंतर्गत बेलवा घाट में बागमती के कटाव से दहशत है। पूर्वी चंपारण के पताही में बागमती व लालबकेया का पानी निचले इलाकों में फैलने लगा है। इससे शिवहर-पताही का सड़क संपर्क भंग हो गया है।

गंडक समेत पहाड़ी नदियों के जलस्तर में भारी बढ़ोतरी 

 पश्चिम चंपारण के बगहा में गंडक समेत पहाड़ी नदियों के जलस्तर में भारी बढ़ोतरी हुई है। गंडक बराज के सभी फाटक उठा दिए गए हैं। वाल्मीकिनगर के आसपास करीब आधा दर्जन गांवों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर रहा है। एसएसबी जवान निचले इलाकों में फंसे लोगों को निकाल रहे हैं। गौनाहा के दो दर्जन गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया है। गंडक बराज से पानी छोडऩे से दियारे के इलाके में लोग भयभीत हैं। नौतन एवं बैरिया दियारे के लोग ऊंचे स्थान पर जाने की तैयारी कर रहे हैं। नरकटियागंज के बैरिया, बिशुनपुरवा, बरगजवा, नोनिया टोला में बाढ़ का कहर है। पंडई, हड़बोड़ा समेत अन्य पहाड़ी नदियों का जलस्तर बढ़ रहा है।

सीतामढ़ी के नदियां खतरे के निशान से ऊपर

सीतामढ़ी मेंबागमती नदी ढेंग, सोनाखान, डुबाघाट व कटौझा में तथा अधवारा नदी सुंदरपुर में, लालबकेया गुआबाड़ी में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। सोनबरसा, सुरसंड, चोरौत व परिहार प्रखंड के कई इलाकों में पानी फैल गया है। मधुबनी में अधवारा समूह की नदियों का जलस्तर फिर बढऩे लगा है। बेनीपट्टी अनुमंडल के बेनीपट्टी, मधवापुर व बिस्फी प्रखंडों में फिर बाढ़ का भय सताने लगा है। समस्तीपुर में बागमती के जलस्तर में वृद्धि हुई है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.