मुजफ्फरपुर आई हास्पिटल का ओटी, दवा भंडार, सचिव कक्ष एवं मुख्य कार्यालय सील

आपरेशन के दौरान संक्रमण फैलने से कई मरीजों की न‍िकालनी पड़ी थी आंख। चार और मरीजों को भेजा गया आइजीआइएमएस पटना बंद लिफाफे में संक्रमण की रिपोर्ट पहुंची सिविल सर्जन कार्यालय सोमवार को जांच कमेटी के सामने सिविल सर्जन रिपोर्ट करेंगे पेश।

Dharmendra Kumar SinghSat, 04 Dec 2021 05:09 PM (IST)
मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल का दवा ‌भंडार‌ व‌ ओटी‌‌ को सील करते कर्मी। जागरण

मुजफ्फरपुर, {अमरेंद्र त‍िवारी}। मुजफ्फरपुर आई हास्पिटल का दवा भंडार, आपरेशन थियेटर (ओटी), सचिव कक्ष और मुख्य कार्यालय शनिवार को सील कर दिया गया। दोपहर करीब दो बजे एएसडीओ, पूर्वी मनीषा कुमारी व नगर डीएसपी रामनरेश पासवान दल-बल के साथ हास्पिटल पहुंचे। वहां मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में कार्रवाई की गई। इससे पूर्व सभी पदाधिकारियों ने हास्पिटल परिसर और कार्यालय का निरीक्षण किया।

इधर, शनिवार की देर शाम आई हास्पिटल से लिए गए स्वाब की जांच रिपोर्ट एसकेएमसीएच के माइक्रोवायरोलाजी विभाग से सीएस कार्यालय पहुंची। सिविल सर्जन डा. विनय कुमार शर्मा ने बताया कि सोमवार को जांच कमेटी के सामने रिपोर्ट पेश की जाएगी। ब्रह्मपुरा थाने की पुलिस भी जांच-पड़ताल में जुटी है। उसने गार्ड और कर्मियों से पूछताछ की।

मुजफ्फरपुर आई हास्पिटल में 22 नवंबर को 65 मरीजों के मोतियाबिंद का आपरेशन किया गया था। घर जाने के बाद आंख में दर्द व मवाद आने के कारण 15 मरीजों की आंख निकालनी पड़ी। कई अन्य मरीज इसी तरह की शिकायत लेकर सिविल सर्जन कार्यालय पहुंचे थे। शुक्रवार को जांच के बाद नौ मरीजों को इंदिरा गांधी इंस्टीट््यूट आफ मेडिकल साइंस (आइजीआइएमएस) पटना भेजा गया था। शनिवार को भी चार मरीजों को एंबुलेंस से पटना भेजा गया। इनमें बोचहां के एतवारपुर की नगीना खातून, कुढऩी के छोटा सुमेरा के अकलू राम, पूर्वी चंपारण की सुभाषिणी कुंवर और पकड़ीदयाल के राम अवध शर्मा हैं।

दो मरीजों की बदली जाएगी कार्निया

सीएस ने बताया कि आइजीआइएमएस के चिकित्सकों से उनकी बात हुई है। बताया गया कि दो मरीजों की आंखों की रोशनी दोबारा आ जाएगी। उनकी आंखों की कार्निया बदली जाएगी। उन्होंने बताया कि सभी मरीजों से संपर्क हो गया है। जैसे-जैसे मरीज आ रहे, उन्हें पटना भेजा जा रहा है। अन्य जिलों के सिविल सर्जन से भी संपर्क किया गया है।

तेज दर्द और मवाद आने की शिकायत 

पीडि़ता नगीना खातून ने बताया कि आपेरशन कराने के बाद घर चली गई थी। इसके बाद सिर और आंख में तेज दर्द शुरू हो गया। आंख से मवाद आने लगा। स्वजन जब मुजफ्फरपुर आई हास्पिटल पहुंचे तो बताया गया कि अस्पताल बंद है। यहां इलाज नहीं होगा। इसके बाद वे लोग घर चले गए। इसी दौरान सदर अस्पताल से फोन कर बुलाया गया।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.