आजू मिथिला नगरिया निहाल सखिया, चारों दूल्हा में बड़का कमाल सखिया, सीतामढ़ी में विवाह पंचमी की धूम

Sitamarhi News सीतामढ़ी ज‍िला समेत आज पूरे म‍िथि‍ला क्षेत्र में विवाह पंचमी को लेकर धूम है। रंगभूमि मैदान में हुआ स्वयंवर हेलीकॉप्टर से की गई पुष्प वर्षा घरों की छत से महिलाओं ने फूल-अक्षत से बारातियों का स्वागत किया।

Dharmendra Kumar SinghPublish:Wed, 08 Dec 2021 10:27 PM (IST) Updated:Wed, 08 Dec 2021 10:27 PM (IST)
आजू मिथिला नगरिया निहाल सखिया, चारों दूल्हा में बड़का कमाल सखिया, सीतामढ़ी में विवाह पंचमी की धूम
आजू मिथिला नगरिया निहाल सखिया, चारों दूल्हा में बड़का कमाल सखिया, सीतामढ़ी में विवाह पंचमी की धूम

जनकपुरधाम, (नेपाल)। आज अगहन शुक्ल पक्ष पंचमी है। इसे विवाह पंचमी के नाम से भी जाना जाता है। आज ही के दिन जनकपुरधाम में सीता राम विवाह संपन्न हुआ था। नेपाल के जनकपुरधाम में बुधवार को राम विवाह पंचमी महोत्सव धूमधाम से मना। प्रभु श्रीराम व माता सीता के विवाह से पहले संध्या काल में बारहबीघा रंगभूमि मैदान में भगवान राम और सीता का स्वयंवर हुआ। भव्य शोभायात्रा निकली। हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा की गई। स्वयंवर के समय बाराती और सराती पक्ष की ओर से हंसी-मजाक व रंग-अबीर का दौर भी चला। महिला श्रद्धालुओं ने भगवान राम का अदभुत स्वागत किया।

यह भी पढ़ें: खेसारी लाल-अक्षरा सिंह का 'सैंया ने देखा ऐसे, मैं पानी-पानी हो गई' पर गरदा परफार्मेंस, क्रेजी हुए मुजफ्फरपुर के युवा

परछावन गीत गाया-आजू मिथिला नगरिया निहाल सखिया, चारो दूल्हा में बड़का कमाल सखिया, राम जी से पूछे जनकपुर के नारी, बता द बबुआ लोगवा देत काहे गारी बता द बबुआ...! धरती गगन थी तो गगन भी खुशी से मगन था। दूल्हा बने श्रीराम के के सांवर सुरतिया देख नर-नारी सब निहाल थे। एक लाख से अधिक लोग स्वयंवर के गवाह बने। गांव-गांव से राम-सीता की दर्जनों झांकियां भी बारहबीघा मैदान पहुंची थीं। घरों की छत से महिलाओं ने फूल-अक्षत से बारातियों का स्वागत किया। इस अवसर पर नगरवासियों ने दीपावली मनाई। जानकी मंदिर के प्रांगण में बने विवाह मंडप को फूलों से सजाया गया था। मंदिर के प्रांगण में सुसज्जित विवाह मंडप में मैथिली विधि-विधान से राम-सीता का विवाह संपन्न हुआ। सीता और राम की कथा अद्भुत है।

भगवान श्रीराम और मां सीता की डोली को दिलाए सात फेरे

बारहबीघा रंगभूमि मैदान में राम मंदिर से भगवान श्रीराम व जानकी मंदिर से मां सीता की डोली पहुंचते ही भगवान के जयकारे शुरू हो गए। भगवान श्रीराम व मां सीता की डोली को साधु-संतों, कमेटियों व बरातियों ने सात फेरे दिलाए।

अवध नगरिया से अएले बरियतिया, जनक नगरिया भइले शोर...

विवाह पंचमी के अवसर पर मां जानकी  प्रकाट्य स्थली पुनौराधाम व जानकी स्थान जानकी मंदिर सहित विभिन्न मठ-मंदिरों में श्री राम-सीता विवाह उत्सव पर आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा। मां जानकी जीर्णोद्धार पर्यटन विकास समिति एवं महंत कौशल किशोर दास, पुनौराधाम की ओर से श्री राम-सीता विवाह उत्सव का आयोजन किया गया। सीता प्रेक्षागृह में श्री राम-सीता विवाह की झांकी के साथ भजन-कीत्र्तन का आयोजन किया गया। इस दौरान मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के बरात लेकर पहुंचने पर महिला श्रद्धालुओं पापरंपरिक तरीके से दूल्हा का परीक्षण किया गया। महिलाओं ने अवध नगरिया से अएले बरियतिया, जनक नगरिया भइले शोर, ढोल व नगाड़ा बाजइ, बजई शहनइया हे, देखन चलू न, सखिया रघुवर के बरियतिया हे परीछन हे, गीत गाकर माहौल को भक्तिमय बना दिया। मंगल आजु जनकपुर अति भावन हे, मंगल दूल्हा -दुल्हिन परम सोहावन हे, जैसे गीतों से श्रद्धलु महिलाओं ने भगवान श्री राम की आरती उतारी। उसके बाद जयमाल का कार्यक्रम हुआ। देर रात मंगल गीत के बीच ओठांगर, कन्यादान व स‍िं दूरदान जैसी पारंपरिक रस्म कराई गई। इस पावन पल के गवाह बने संत-महंत व हजारों श्रद्धालु। इसी तरह जानकी स्थान स्थित जानकी मंदिर, र‍िंग बांध स्थित पीली कुटी, बाजार समिति स्थित हनुमान मंदिर समेत विभिन्न मठ-मंदिरों में श्री राम-सीता विवाह का आयोजन किया गया।