पूर्वी चंपारण में मास्क चेकिंग अभियान में वसूले गए अब तक 41 लाख रुपये, 30 लोग गिरफ्तार

कोरोना संक्रमण से बचाव के ल‍िए मास्‍क लगाना जरूरी है।

Bihar News पुलिस समेत कई अधिकारी सड़कों पर उतर कर कोरोना गाइडलाइन के नियमों का सख्ती से अनुपालन कराने में लगे हुए हैं। इस दौरान कोरोना गाइड लाइन के नियमों का पालन नहीं करने वाले लोगों से जुर्माना भी वसूला जा रहा है।

Dharmendra Kumar SinghSun, 16 May 2021 01:26 PM (IST)

पूर्वी चंपारण, जासं। वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को देखते हुए राज्य सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन कोविड-19 के नियमों का अनुपालन कराने में लगी हुई है। पुलिस समेत कई अधिकारी सड़कों पर उतर कर कोरोना गाइडलाइन के नियमों का सख्ती से अनुपालन कराने में लगे हुए हैं। इस दौरान कोरोना गाइड लाइन के नियमों का पालन नहीं करने वाले लोगों से जुर्माना भी वसूला जा रहा है।

जिले में मास्क इन्फोर्समेंट के तहत लगभग 41 लाख रुपया जुर्माना वसूला गया है। इसकी जानकारी देते हुए पुलिस कप्तान नवीन चंद्र झा ने बताया कि मास्क इंफोर्समेंट के तहत जिला में कुल 41 लाख रुपया जुर्माना वसूला गया है। एसपी के अनुसार लॉकडाउन इन्फोर्समेंट के तहत 20 दुकानों को सील किया गया है। बताया आपदा प्रबंधन अधिनियम उल्लंघन के आरोप में 37 प्राथमिकियां दर्ज हुई है और 30 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

टीकाकरण व मनरेगा योजना की डीडीसी ने की समीक्षा

उप विकास आयुक्त कमलेश कुमार ङ्क्षसह ने जिले के बनकटवा, घोड़ासहन एवं चिरैया प्रखण्डों का दौरा कर वैक्सीनेशन, मास्क वितरण और प्रवासी मजदूरों को रोजगार हेतु चलाई जा रही मनरेगा योजनाओं की समीक्षा की गई। उन्होंने उपस्थित बीडीओ, एमओआईसी को दूरगामी क्षेत्रों में भी कैम्प कर वैक्सीनेशन हेतु निर्देश दिया। कहा कि अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण करना सरकार का लक्ष्य है।

जीविका द्वारा मास्क की गुणवत्ता सुनिश्चित करने एवं ससमय वितरण करने हेतु बीपीएम जीविका को निर्देश दिया। मनरेगा अंतर्गत पइन एवं पोखर पर कार्यरत मजदूरों से वार्ता की गई एवं उन्हें वैक्सीनेशन लेने हेतु प्रेरित किया गया। कार्यक्रम पदाधिकारी मनरेगा को सभी पंचायतों में मजदूरों को रोजगार देने एवं उन्हें मास्क, हैंडवाश कराने तथा शारीरिक दूरी के साथ कार्य कराने हेतु निर्देश दिया। कहा कि मनरेगा से होने वाले कार्यों में अधिक से अधिक संख्या में मजदूरों को काम देने की दिशा में कार्य किया जाए। बाहर से आने वाले मजदूरों के अलावा स्थानीय मजदूरों को रोजगार का अवसर उपलब्ध कराएं। इस दौरान किसी कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

डीडीसी ने किया बनकटवा पीएचसी व मनरेगा कार्यालय का औचक निरीक्षण

डीडीसी कमलेश कुमार सिंह द्वारा शनिवार को प्रखंड मुख्यालय में अवस्थित पीएचसी एवं मनरेगा कार्यालय का औचक निरीक्षण किया गया। मनरेगाकर्मियों के मौखिक शिकायत पर डीडीसी ने बीडीओ व सीओ द्वय पदाधिकारियो को मनरेगा कार्यालय भवन के एक कमरा को अतिक्रमण मुक्त करने का आदेश दिया। यह वही भवन है जिसमे 1989 में तत्कालीन मुख्यमंत्री राबड़ी देवी द्वारा प्रखण्ड कार्यालय का उद्घाटन किया गया था।जिसके एक कमरा में बनकटवा के एक व्यक्ति वर्षो से टेंट का सामान रखते है।

बीडीओ और स्वास्थ्यकर्मियों के साथ प्रखंड में कोरोना की स्थिति की समीक्षा की। उपस्थित ग्रामीणों की मांग पर डीडीसी ने बनकटवा और जितना दोनों गांवों में हाइपो क्लोराइज्ड का छिड़काव कराने का आदेश स्वास्थ्यकर्मियों को दिया। पीएचसी में कोरोना टीका के नहीं होने तथा गांवों में सैनेटाइजर का छिड़काव नहीं किए जाने के संबंध में पूछने पर डीडीसी कमलेश कुमार ने कहा एक दिन के लिए ही कोरोना टीका की कमी हुई है। वही गांवों में छिड़काव को लेकर कुछ भी स्पष्ट कहने से परहेज किया।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.