top menutop menutop menu

कल्याणपुर में गंगा ने शुरू किया कटाव, गांव पर मंडराया खतरा

संवाद सूत्र, बरियारपुर (मुंगेर): गंगा का जलस्तर बढ़ने के साथ ही करहरिया पश्चिमी पंचायत के कल्याणपुर गांव में गंगा कटाव शुरू हो गया है। जिससे सुरक्षा दीवार, पक्की सड़क, वाटर टावर तथा घरों के कटने का खतरा मंडराने लगा है। प्रतिदिन तेज गति से हो रहे कटाव से प्रतीत होता है कि तीन से चार दिन के अंदर सड़क, सुरक्षा दिवार एवं वाटर टावर गिरकर गंगा में समा जाएगा। प्रशासन की ओर से इस पर ध्यान नहीं दिए जाने के कारण ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। ग्रामीण गांव के कटने के खतरे से आशंकित नजर आ रहे हैं। विदित हो कि बीते वर्ष करहरिया पश्चिमी पंचायत के वार्ड संख्या एक से लेकर रघुनाथपुर तक कई गांवों को बचाने के लिए जियो बैग से कटाव को रोकने का काम किया गया था। लेकिन बीते वर्ष के बाढ में ही कई जगहों पर जिओ बैग गंगा नदी में समा गए। पानी घटने के बाद क्षतिग्रस्त जिओ बैग की मरम्मत नहीं किए जाने के कारण वर्तमान में भीषण कटाव जारी है। जिसके कारण लोगों में विस्थापित होने का भय समा रहा है। ग्रामीण विवेक दुबे, पवन दुबे, प्रदुमन दुबे, प्रभु मंडल सहित अन्य का कहना है कि बारिश में मिट्टी के कटाव के वाद बाढ प्रमंडल के कनीय अभियंता के द्वारा जैसे तैसे जिओ बैग की मरम्मत की गई। जब ग्रामीणों ने अच्छे ढंग से जिओ बैग की मरम्मत कर कटाव रोकने की बात कनीय अभियंता से किया तो उन्होंने कहा कि इसे जल्दी ठीक करा कर कटाव रोकने का काम किया जाएगा। लेकिन आज तक लौटकर कनीय अभियंता इसे देखने के लिए नहीं आए हैं। जिसके कारण गांव को कटने का खतरा मंडरा रहा है। अगर जल्द ही इस दिशा में कारगर उपाय नहीं किया गया तो करहरिया पश्चिमी पंचायत के वार्ड संख्या एक से चार तक सैकड़ों घर गंगा नदी में समा जाएंगे तथा गांव के बगल में किए गए सरकारी कार्य के लाखों रुपए नष्ट हो जाएंगे। इन लोगों ने प्रशासन से कटाव रोधी कार्य यथाशीघ्र शुरू करने की मांग की है। अन्यथा ग्रामीण विभाग के खिलाफ जन आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.