हे मैया ! सुनी लिहो पुकार, अबकी करी दीहो बेड़ा पार..

मुंगेर । धरहरा में नामांकन का चौथा दिन। शुक्रवार को प्रखंड कार्यालय में नामांकन करने के

JagranPublish:Sat, 09 Oct 2021 12:16 AM (IST) Updated:Sat, 09 Oct 2021 12:16 AM (IST)
हे मैया ! सुनी लिहो पुकार, अबकी करी दीहो बेड़ा पार..
हे मैया ! सुनी लिहो पुकार, अबकी करी दीहो बेड़ा पार..

मुंगेर । धरहरा में नामांकन का चौथा दिन। शुक्रवार को प्रखंड कार्यालय में नामांकन करने के बाद प्रत्याशी सबसे पहले सर धरहरा की प्राचीन काली मंदिर पहुंचते हैं। मंदिर परिसर में प्रवेश करने के साथ ही प्रत्याशियों के समर्थक 'प्रेम से बोलिए काली मैया की जय' के जयकारे लगाना नहीं भूल रहे हैं। विभिन्न पदों के प्रत्याशी नामांकन कक्ष से पैदल ही माता के दरबार तक हाजिरी लगाने पहुंच रहे हैं। प्रत्याशी माता के सामने अपना मत्था टेकने के बाद कह रहे हैं, हे मैया सुनी लिहो पुकार, अबकी करी दीहो बेड़ा पार..। वैसे भी धरहरा में प्राचीन काली मंदिर का ऐतिहासिक महत्व रहा है। साल 1993 में मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया। नए पुराने प्रत्याशी नामांकन कराने के बाद माता का आशीर्वाद लेने से नहीं चूक रहें। ऐसी मान्यता है कि माता काली की जो सच्चे मन से प्रार्थना करते हैं माता उनकी प्रार्थना कभी ओ स्वीकार नहीं करती, उन्हें मनचाहा वरदान देती है। बस मां के प्रति यही प्रेम और आस्था प्रत्याशियों और उनके समर्थकों को माता के दरबार खींच ला रहा है। बच्चे, बूढ़े, युवा हो या फिर महिलाएं हर कोई प्रत्याशी के साथ एक बार माता के दरबार में अपना मत्था जरूर टेक रहे हैं। कहते हैं नामांकन अवधि में एक मेला अगर धरहरा के गांधी मैदान में लगता है तो दूसरा मेला माता काली के परिसर में ही लगता है।

---------------------------------

माता का आशीर्वाद मिल गया, सब सही होगा

माता का आशीर्वाद लेने के बाद प्रत्याशी अपनी जीत के प्रति आश्वस्त नजर आ रहे हैं। पूछने पर प्रत्याशी बताते हैं कि माता का आशीर्वाद मिल गया अब राह में कोई बाधा नहीं है, जीत तय है। बस इसी विश्वास के साथ प्रत्याशी और उनके समर्थक माता के दरबार में आना जरूरी समझते हैं। नामांकन के दौरान ऐसा लग रहा है जैसे 13 पंचायतों के लोग धरहरा के प्राचीन काली मंदिर में आकर एकाकार रूप ले रहा हो। कोई मैया को नारियल तो कोई लड्डू का चढ़ावा चढ़ा रही हैं। महिलाएं माता के चरणों के नीचे रखी सिदूर को अपनी मांगों में सजा विजयी तिलक लगा रही है।