प्रभारी मंत्री लेसी सिंह ने कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति का लिया जायजा

फोटो-23 एमडीबी 1 मधुबनी। जिले की प्रभारी मंत्री लेसी सिंह ने जिला प्रशासन द्वारा जिले में कोरोन

JagranPublish:Sun, 23 May 2021 11:10 PM (IST) Updated:Sun, 23 May 2021 11:10 PM (IST)
प्रभारी मंत्री लेसी सिंह ने कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति का लिया जायजा
प्रभारी मंत्री लेसी सिंह ने कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति का लिया जायजा

फोटो-23 एमडीबी 1

मधुबनी। जिले की प्रभारी मंत्री लेसी सिंह ने जिला प्रशासन द्वारा जिले में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा वर्चुअल माध्यम से की। उन्होंने जिले में कोरोना संक्रमण की अद्यतन स्थिति, कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे प्रयास एवं जिला प्रशासन के अन्य कार्यों की गहन समीक्षा किया। जिले के प्रभारी मंत्री द्वारा वर्चुअल माध्यम से की गई समीक्षा बैठक में जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा, पीएचईडी मंत्री डॉ. रामप्रीत पासवान, परिवहन मंत्री शीला कुमारी, सांसद आरपी मंडल व डॉ. अशोक कुमार यादव, जिला पदाधिकारी अमित कुमार, पुलिस अधीक्षक डॉ. सत्य प्रकाश, जिले के विधायक, विधान पार्षद, जिले के वरीय पदाधिकारी आदि शामिल हुए।

जिला पदाधिकारी अमित कुमार ने वैश्विक कोरोना महामारी से जिले में उत्पन्न स्थिति और इससे निपटने के लिए जिला प्रशासन द्वारा किए गए कार्यों एवं मौजूदा स्थिति से इस समीक्षा बैठक में शामिल जिले की प्रभारी मंत्री सहित सभी को अवगत कराया। डीएम ने कहा कि मधुबनी जिलान्तर्गत कुल 8,739 कोरोना संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से 2,199 मामले सक्रिय है। वहीं 6,467 संक्रमित व्यक्ति कोरोना महामारी को मात देकर स्वस्थ हो चुके हैं। सबसे ज्यादा एक्टिव केस सदर अनुमण्डल अंतर्गत रहिका प्रखण्ड में है। जिले में जितने भी कोरोना संक्रमित है उसमें 68 फीसद पुरुष एवं 32 फीसद महिलाएं हैं। जिले में कुल 593 कन्टेन्मेंट जोन बनाए गए थे। जिसमें से 338 कन्टेन्मेंट जोन अभी भी सक्रिय है। जिले में अब तक टीकाकरण का प्रथम खुराक कुल 3,02,212 व्यक्तियों को दिया जा चुका है। जबकि द्वितीय खुराक कुल 79,903 व्यक्तियों को दिया गया है। इस प्रकार जिले में कुल-3, 82,115 व्यक्ति टीकाकरण से आच्छादित हो चुके है।

जिला पदाधिकारी ने कहा कि जिले में वर्तमान में कुल पांच कोविड केयर केन्द्र संचालित है। जिसमें सभी प्रकार की व्यवस्था दुरूस्त है। होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को ऑनलाइन माध्यम से डॉक्टरों के द्वारा परामर्श एवं उचित सलाह भी दी जाती है। साथ ही होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को एएनएम के माध्यम से प्रत्येक दिन उनके ऑक्सिजन एवं तापमान की जांच की जाती है। साथ ही उनका हीट एप के माध्यम से उनकी जानकारी शत-प्रतिशत अपलोड की जाती है। होम आइसोलेशन में रह रहे सभी मरीजों की स्थिति पर कड़ी निगरानी रखी जाती है। उक्त बैठक में जन प्रतिनिधियों ने कई आवश्यक सुझाव भी दिए। प्रभारी मंत्री लेसी सिंह ने जिला पदाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक को सुझावों पर नियमानुकूल कार्रवाई करने का निर्देश दिया।