मधवापुर भीषण डाकाकांड में पुलिस चार दिन बाद भी खाली हाथ

मधवापुर भीषण डाकाकांड में पुलिस चार दिन बाद भी खाली हाथ

मधुबनी। मधवापुर बाजार के भगवती स्थान मुहल्ले में भीषण डाकाकांड के चार दिनों बाद भी पुलिस खा

JagranFri, 23 Apr 2021 11:52 PM (IST)

मधुबनी। मधवापुर बाजार के भगवती स्थान मुहल्ले में भीषण डाकाकांड के चार दिनों बाद भी पुलिस खाली हाथ है। अबतक पुलिस न तो डाकाकांड में संलिप्त अपराधियों को गिरफ्तार कर सकी है और न ही लूटी गई नकदी एवं जेवरात ही बरामद कर सकी है। जिससे डाकाकांड से पीड़ित परिवार चितित है। पीड़ित परिवार डाकाकांड के सदमे से अबतक उबर नहीं पाया है। इस डाकाकांड के पर्दाफाश होने में विलंब से पुलिस की सक्रियता पर सवाल उठने लगा है। आखिर कब तक पुलिस उक्त डाकाकांड में संलिप्त अपराधियों को गिरफ्तार कर लूटी गई नगद एवं जेवरात बरामद करने में सफल होगी, यह यक्ष प्रश्न बनकर रह गया है।

हालांकि बेनीपट्टी इंस्पेक्टर राजेश कुमार ने बताया कि जल्द ही डाकाकांड का पर्दाफाश कर दिया जाएगा। पुलिस आईटी सेल के माध्यम से मोबाइलों का लोकेशन खंगाला रही है। विभिन्न स्त्रोतों से डाकाकांड में संलिप्त सभी अपराधियों का सुराग पाने का प्रयास किया जा रहा है। अपराधियों को गिरफ्तार करने के लिए उनके संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है। डकैती की घटना में संलिप्त अपराधी जल्द पुलिस गिरफ्त में होगा।

गौरतलब है कि पिछले सोमवार की रात मधवापुर बाजार के भगवती स्थान मुहल्ला निवासी किराना व्यवसायी मो. सिराजुल के घर हथियार से लैस डकैतों ने धावा बोलकर 18.50 लाख भारतीय रुपये, छह लाख नेपाली रुपये, दस तोला सोने का जेवरात एवं 40 भर चांदी का जेवरात लूट लिया था। इस क्रम में डकैतों ने मारपीट कर गृहस्वामी व उनके चार स्वजनों को गंभीर रूप से जख्मी कर दिया था। डकैतों ने दहशत फैलने के लिए बम विस्फोट एवं हवाई फायरिग भी किया था। उक्त वारदात के चार दिन बाद भी पुलिस न तो अपराधियों को गिरफ्तार कर सकी है और न ही लूटी गई नकदी व जेवरात ही बरामद कर सकी है। इससे पुलिस की सक्रियता पर सवाल उठने लगी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.