झंझारपुर प्रखंड नजारत से 31 संचिकाएं रहस्यमय ढंग से गायब

झंझारपुर प्रखंड नजारत से 31 संचिकाएं रहस्यमय ढंग से गायब
Publish Date:Sun, 20 Sep 2020 12:54 AM (IST) Author: Jagran

मधुबनी। शुक्रवार की रात झंझारपुर प्रखंड कार्यालय के नजारत से 31 महत्वपूर्ण दस्तावेज गायब हो गए या यूं कहें कि चोरी हो गई। चोरी गए दस्तावेज में सामान्य रोकड़ पंजी, सहायक रोकड़ पंजी सहित कई पंजी एवं विभिन्न बैंक के सरकारी पासबुक हैं। चोरी की घटना तब घटी जब मुख्य दरवाजा पर ताला जड़ा हुआ ही था। बताया जाता है कि एक अन्य गेट अंदर से खुला था और बाहर से बंद। संभावना जताई जा रही है कि किसी बड़े घोटाले को दबाने के लिए प्रखंड नजारत की महत्वपूर्ण संचिकाएं चोरी की गई है।

शुक्रवार को देर संध्या सात बजे तक बीडीओ कृष्णा कुमार एवं नए नाजिर मायानन्द झा ने नजारत में संचिकाओं का अवलोकन किया। संचिकाओं में पाई गई कुछ त्रुटियों को ठीक करने का निर्देश भी बीडीओ ने दिया। बीडीओ के जाने के बाद नाजिर ने मुख्य गेट का दरवाजा बंद किया और चाबी अपने साथ लेते गए। सुबह साढ़े दस बजे जब नाजिर पहुंचे और आलमीरा खोला तो उसमें संचिकाएं नहीं थी। अन्य गेट को टटोला तो एक गेट का भीतर से दरवाजा बंद नहीं था। बाहर से सिर्फ हैंडिल लगा था। संभावना जताई जा रही है कि इसी दरवाजे का उपयोग संचिकाओं को गायब करने के लिए किया गया। संचिका गायब होने के बाद प्रखंड का पूरा लेखा जोखा ही अब भगवान भरोसे हो गया है। नाजिर ने बताया कि पूर्व नाजिर के एक नाजायज सहयोगी भी शुक्रवार को नजारत आए थे। हलांकि उक्त नाजायज कर्मी नाजिर के समक्ष ही चला गया था। दबी जुबान से नाजिर पूरे घटनाक्रम को षडयंत्र की संज्ञा दे रहा है लेकिन सवाल उठता है कि उसने मुख्य दरवाजा बंद करने से पूर्व अन्य दरवाजा को अंदर से चेक क्यों नहीं किया। बीडीओ कृष्णा कुमार ने बताया कि इस संबंध में उच्चाधिकारी को बताया गया है और प्राथमिकी भी दर्ज कराई जा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.