नगर निगम प्रशासन व सफाई कर्मियों में गतिरोध जारी, छह दिनों से सफाई ठप

मधुबनी। शहरी क्षेत्र में बुधवार को छठे दिन भी सफाई कार्य ठप रहा। नगर निगम प्रशासन व सफाइ

JagranWed, 02 Jun 2021 11:51 PM (IST)
नगर निगम प्रशासन व सफाई कर्मियों में गतिरोध जारी, छह दिनों से सफाई ठप

मधुबनी। शहरी क्षेत्र में बुधवार को छठे दिन भी सफाई कार्य ठप रहा। नगर निगम प्रशासन व सफाई कर्मियों के बीच गतिरोध बना रहा। सफाई को लेकर कोई ठोस निर्णय नहीं हो सका। उम्मीद जताई जा रही है कि गुरुवार को होने वाले सशक्त स्थायी समिति की बैठक में इस समस्या का कोई समाधान निकल पाएगा। इधर, पिछले छह दिनों से सफाई नहीं होने से शहर में हर तरफ गंदगी का साम्राज्य हो गया है। कदम कदम-कदम पर गंदगी का ढेर नजर आ रहा है। गंदगी की सफाई को लेकर वैकल्पिक व्यवस्था बहाल करने में नगर निगम प्रशासन बौना साबित हुआ। इधर, शहरवासियों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। शहर में जगह-जगह गंदगी को लेकर वार्ड 30 के अमित कुमार सहित कई लोगों ने गंदगी की सफाई नहीं होने को लेकर न्यायालय का दरवाजा खटखटाने का मन बना लिया है।

--------------

शहर का कूड़ादान फैला रहा संक्रमण, महामारी का भय :

कोरोना काल में गंदगी से भरे कूड़ेदानों में मास्क व सैनिटाइजर अवशेष नजर आ रहा है। शहर में मेडिकल कचरा के लिए अलग कूड़ादान नहीं होने से मेडिकल कचरा का निस्तारण अलग से नहीं हो रहा है। आम कचरा का निस्तारण नहीं होने के बीच मास्क, सैनिटाइजर युक्त कचरा के निस्तारण में कोताही सफाई कर्मियों के लिए खतरनाक हो सकती है।

-----------------

मृत पशुओं की दुर्गंध से रहती महामारी की आशंका :

शहर क्षेत्र में मृत पशुओं के दफनाने की व्यवस्था बहाल नहीं हुई है। इसके लिए अब तक कोई स्थल चिह्नित नहीं हो सका है। जिससे शहर में पाए जाने वाले मृत पशुओं को शहर के माल गोदाम रोड में फेंक दिया जाता है। जिसकी बदबू लोगों को काफी परेशान करती है। इधर, करीब चार माह से शहर की सफाई कार्य देखने वालों द्वारा मृत पशुओं को शहर से बाहर दफनाने में उदासीनता बरती जा रही है। बता दें कि मरे हुए पशुओं को फेंकने के नाम पर छह माह पूर्व तक प्रतिमाह करीब दो लाख रुपये का खर्च दिखाया जाता था। नगर निगम के सिटी मैनेजर नीरज कुमार झा ने बताया कि शहर में पाए जाने वाले प्रतिदिन दो से पांच मृत पशुओं को दफनाने की जिम्मेवारी सफाई एजेंसी की होती है। वहीं डॉ. एनके यादव ने बताया कि किसी वायरस या बीमारी से ग्रसित मरे पशु को दफनाने में लापरवाही कई बीमारी को बढ़ा देता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.